धर्म

अद्भुत योग : वट सावित्री व्रत आज, जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और व्रत कथा

Related image

हिंदू धर्म में सोमवती अमावस्या का दिन शुभ माना जाता है। इस दिन मौन व्रत और उपवास करने से कुंडली के दोष और अशुभ योग दूर होते हैं और जीवन में सुख-समृद्धि आती है। इस सोमवार 3 जून को सोमवती अमावस्या के साथ वट सावित्री व्रत और शनि जयंती भी मनाई जाएगी। इस दिन पंच महायोग होने से दान पुण्य करने पर दोगुना लाभ मिलेगा। सोमवार को कई अनूठे योग बन रहे हैं।

इस साल सोमवती अमावस्या के साथ ही वट सावित्री व्रत, शनि जयंती और देव पितृ कार्य अमावस्या एक साथ मनाई जाएगी। सोमवती अमावस्या पर पंच महायोग होने से पूजा-अर्चना करने पर कई प्रकार के दोष और रोग दूर होंगे। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग, अमृत योग और गज केसरी योग है। सोमवती अमावस्या के दिन यदि शुभ मुहूर्त में पूजा करें तो जातकों की कुंडली के कई दोष दूर हो सकते हैं। साथ ही शनि जयंती भी इसी दिन होने से भगवान शनि देव की आराधना कर अपनी राशि में शनि के प्रकोप से भी बच सकते हैं और हर मनोकामना पूरी करवा सकते हैं, इसलिए सोमवती अमावस्या पर व्रत रखने का अधिक महत्व है। सुबह उठकर स्नान करें और शुद्ध वस्त्र धारण कर मां तुलसी की पूजा करें और इच्छानुसार दान पुण्य करें। गरीबों को भोजन का दान करने से ज्यादा पुण्य मिलेगा।

वट वृक्ष का महत्व:  

हिंदू धर्म में वट सावित्री व्रत में ‘वट’ और ‘सावित्री’ दोनों का बहुत ही महत्व माना जाता है। पीपल की तरह वट या बरगद के पेड़ का भी विशेष महत्व होते हैं। शास्त्रों के अनुसार वट में ब्रह्मा, विष्णु व महेश तीनों का वास होता है। बरगद के पेड़ के नीचे बैठकर पूजन, व्रत कथा सुनने से मनोवांछित फल की प्राप्ती होती है. वट वृक्ष अपनी लंबी आयु के लिए भी जाना जाता है. इसलिए यह वृक्ष अक्षयवट के नाम से भी मशहूर है।

वट सावित्री व्रत की तिथि और शुभ मुहूर्त:  

ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावास्या को वट सावित्री अमावास्या कहा जाता है. अमावास्या तिथि 02 जून 2019 को शाम 04 बजकर 39 मिनट से शुरू होगी और 03 जून 2019 को दोपहर 03 बजकर 31 मिनट तक

वट सावित्री व्रत के लिए पूजन सामग्री और पूजन विधि:  

वट सावित्री पूजन के लिए सत्यवान-सावित्री की मूर्ती, बांस का बना हुआ एक पंखा, लाल धागा, धूप, मिट्टी का दीपक, घी, 5 तरह के फल फूल. 1.25 कपड़ा, दो सिंदूर जल से भरा हुआ पात्र और रोली इकट्ठा कर लें।

वट सावित्री व्रत का महत्व

इस व्रत में बरगद पेड़ के चारों ओर घूमकर रक्षा सूत्र बांधा और आशीर्वाद मांगा। इस अवसर पर सुहागिनों एक-दूसरे को सिंदूर लगाती हैं। इसके अलावा पुजारी से सत्यवान और सावित्री की कथा सुनती हैं। नवविवाहिता सुहागिनों में पहली बार वट सावित्री पूजा का अलग ही उत्साह रहता है।

वट सावित्री के व्रत के दिनबरगद पेड़ के नीचे बैठकर पूजन, व्रत कथा सुनने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। इस व्रत में महिलाएं सावित्री-सत्यवान की कथा सुनती हैं। वट वृक्ष के नीचे बैठकर ही सावित्री ने अपने पतिव्रत से पति सत्यवान को दोबारा जीवित कर लिया था। दूसरी कथा के अनुसार मार्कण्डेय ऋषि को भगवान शिव के वरदान से वट वृक्ष के पत्ते में पैर का अंगूठा चूसते हुए बाल मुकुंद के दर्शन हुए थे, तभी से वट वृक्ष की पूजा की जाती है। वट वृक्ष की पूजा से घर में सुख-शांति, धनलक्ष्मी का भी वास होता है। वट वृक्ष रोग नाशक भी है। वट का दूध कई बीमारियों से हमारी रक्षा करता है।

ऐसे करें पूजा

वट सावित्री और वट पूर्णिमा की पूजा वट वृक्ष के नीचे होती है। एक बांस की टोकरी में सात तरह के अनाज रखे जाते हैं जिसे कपड़े के दो टुकड़ों से ढक दिया जाता है। एक दूसरी बांस की टोकरी में देवी सावित्री की प्रतिमा रखी जाती है। वट वृक्ष पर महिलायें जल चढ़ा कर कुमकुम, अक्षत चढ़ाती हैं। फिर सूत के धागे से वट वृक्ष को बांधकर उसके सात चक्‍कर लगाये जो हैं। सभी महिलायें वट सावित्री की कथा सुनती हैं और चने गुड् का प्रसाद बांटा जाता है।

वट सावित्री व्रत की कथा:  

भद्र देश के राजा अश्वपति के कोई संतान नहीं थी. उन्होंने संतान की प्राप्ति के लिए कई वर्षों तक तपस्या कि जिससे प्रसन्न होकर देवी सावित्री ने प्रकट होकर पुत्री का वरदान दे दिया. फलस्वरूप राजा को कन्या हुई और इसी वजह से कन्या का नाम सावित्री रखा गया. कन्या काफी सुंदर और गुणवान थी. सवित्री के लिए योग्य वर नहीं मिल पा रहा था जिसके लिए राजा दुखी थे. इस कारण राजा कि पुत्री खुद ही वर तलाशने तपोवन में भटकने लगी।वहां सावित्री ने राजा द्युमत्सेन के पुत्र सत्यवान को देखा और उन्हें पति के रूप में मानकर उनका वरण किया. सत्यवान अल्पआयु और वे वेद ज्ञाता भी थे। नारद मुनि ने सावित्री से मिलकर सत्यवान से विवाह करने के लिए समझाया. लेकिन सावित्री ने नारद मुनि की बात नहीं सुनी और सत्यवान से ही शादी कर ली. जब सत्यवान की मृत्यु में जब कुछ ही दिन बचे थे तब सावित्री ने घोर तपस्या की जिसके बाद यमराज ने सावित्री के तप से प्रसन्न हो गए और उन्हें वरदान मांगने के लिए कहा. वरदान में सावित्री ने अपने पति के प्राण मांग लिए।

Back to top button