क्राइम

अजीत सिंह हत्याकांड: पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर 25000 का इनाम घोषित, पुलिस कर रही छापेमारी

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के विभूतिखंड क्षेत्र में अजीत सिंह हत्याकांड में साजिश रचने के आरोप में फरार चल रहे पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर लखनऊ पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित कर दिया है। वारंट जारी होने के बाद 15 फरवरी से फरार चल रहे धनंजय सिंह की तलाश में लखनऊ पुलिस ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है।

पुलिस ने गुरुवार को गुडंबा के अपार्टमेंट, सुल्तानपुर रोड स्थित सूर्या अपार्टमेंट और गोमतीनगर के शारदा अपार्टमेंट समेत कई जगहों पर छापा मारा लेकिन पूर्व सांसद का पता नहीं लगा। वहीं इस हत्याकांड में तीन शूटरों रवि यादव, राजेश तोमर, शिवेंद्र सिंह उर्फ अंकुर की तलाश की जा रही है।

लखनऊ, जौनपुर समेत एक दर्जन जगह पर पुलिस ने की छापेमारी
लखनऊ पुलिस की टीम ने बीते बुधवार रात से उनके चार ठिकानों पर दबिश दी लेकिन कोई सुराग हाथ नहीं लगा। जौनपुर और अन्य क्षेत्रों में भी पुलिस छापेमारी कर रही है । प्रभारी निरीक्षक विभूतिखंड चंद्रशेखर सिंह के मुताबिक, कठौता चौराहे पर गत 6 जनवरी की रात गैंगवार में मऊ मुहम्मदाबाद गोहाना के पूर्व उप ज्येष्ठ प्रमुख अजीत सिंह की हत्या हुई थी।

पूर्व सांसद पर साजिश रचने का आरोप

इस मामले में जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह को साजिश रचने का आरोपी पाया गया। पुलिस ने उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट हासिल किया। इसके बाद से ही वह फरार चल रहा है। पुलिस ने उसकी तलाश में आजमगढ़, जौनपुर, वाराणसी सहित कई जिलों में दबिश दी लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। इस बीच पुलिस को खबर मिली कि धनंजय सिंह दिल्‍ली के एक वकील के संपर्क में है। इस सूचना पर पुलिस की एक टीम ने दिल्ली में भी दो स्‍थानों पर दबिश दी लेकिन पूर्व सांसद हाथ नहीं लगे।

मुठभेड़ में मारे गए गिरधारी ने दिया था बयान

अजीत के साथ मौजूद मोहर सिंह ने एफआईआर करायी थी कि आजमगढ़ जेल में बंद कुंटू सिंह और अखण्ड सिंह ने गिरधारी के जरिये हत्या करवायी है। गिरधारी ने पांच शूटरों के साथ अजीत की हत्या की थी। गिरधारी को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराने का दावा किया था।

इसके बाद ही पुलिस ने सांसद धनंजय सिंह को गिरधारी के बयान के आधार पर हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोपी बनाया था। इसके साथ ही धनंजय पर एक घायल शूटर राजेश तोमर का लखनऊ और सुलतानपुर में इलाज कराने में मदद करने का भी आरोप है।

Back to top button