देश

खट्टर कर रहे खेल में खेल, क्या खिलाड़ी कर सकेंगे फेल ?

 

हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार से राज्य के खिलाड़ी बेहद नाराज हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि खिलाड़ियों को प्रोत्साहन देने के लिए राज्य की जो मौजूदा खेल नीति है, सरकार उसमें बदलाव करने जा रही है.

इस नई नीति के अनुसार अगर एक खिलाड़ी वित्तीय वर्ष में एक से ज्यादा पदक जीतता है तो उसे उसके द्वारा जीते गए सर्वोच्च पदक के लिए आवंटित की गई पूरी राशि मिलेगी, लेकिन दूसरे व इसके बाद के पदकों के लिए 50 फीसदी राशि ही मिलेगी. इसी को लेकर खिलाडिय़ों ने नाराजगी जतायी है.

इसी कारण एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रचने वाले पहलवान बजरंग पुनिया और महिला पहलवान वीनेश फोगाट ने हरियाणा सरकार की खेल नीति की कड़ी आलोचना की है.

दोनों पहलवानों ने हरियाणा खट्टर सरकार पर अपना गुस्सा निकालते हुए कहा है कि खेलों को खत्म करने की साजिश की जा रही है. दोनों पहलवानों ने नई नकद इनाम नीति को लेकर सरकार को घेरा है. वीनेश फोगाट ने ट्वीट किया ‘ मेरी हरियाणा सरकार से गुजारिश है कि आप अपना दिए हुए धन राशि को वापस ले जाए. इस तरह खिलाड़ियों को आप अपने राजनीतिक अखाड़े पर खड़ा करके उन्हें अपमानित न करें.

इसी तरह से बजरंग ने ट्वीट किया कि जब आप खिलाड़ी को पुरस्कार देने की बात करते हैं तो आप पैसा नहीं, आप समर्थन देने का वादा करते हैं. अगर अपना वादा पूरा नहीं कर सकते तो आपसे कोई खिलाड़ी कैसे भविष्य में कोई उम्मीद रखेगा.

अब देखना ये है कि खिलाड़ियों की इस नाराजगी का सरकार पर कोई असर पड़ता है. वो खेल नीति में ये बदलाव लागू करती है, या फिर पुरानी खेल नीति को जस का तस रहने दिया जाएगा.

Back to top button