Breaking News
Home / खेल / 2109 में पंत भले ही हों स्टार, लेकिन भारी पड़ा DK का 2007 साल, जानिए क्यों ?

2109 में पंत भले ही हों स्टार, लेकिन भारी पड़ा DK का 2007 साल, जानिए क्यों ?

मई में इंग्लैंड में होने वाले वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम का ऐलान हो गया है. चयनकर्ताओं ने अतिरिक्त विकेटकीपर के तौर पर दिनेश कार्तिक पर भरोसा जताया है.कार्तिक को टीम में लेने के फैसले पर चयनकर्ताओं का कहना है कि ऋषभ पंत के नाम पर काफी चर्चा हुई, लेकिन विकेटकीपिंग स्किल्स, अनुभव और नाजुक मौकों पर फिनिशर की भूमिका देखते हुए कार्तिक को तरजीह दी गई है.

दिनेश कार्तिक के पक्ष में उनके अनुभव और विकेटकीपिंग टेक्नीक ने अहम भूमिका निभाई. कार्तिक ने 2004 में इंग्लैंड में ही लॉर्ड्स मैदान पर इंटरनेशनल वनडे क्रिकेट की शुरुआत की. तब कार्तिक सिर्फ विकेटकीपर की भूमिका में थे जो थोड़ी बुहत बैटिंग कर सकते थे. लेकिन कुछ ही महीने बाद महेंद्र सिंह धोनी ने दिसंबर, 2004 में टीम में जगह बनाई और क्रिकेट जगत पर छा गए. उनकी छाया में दिनेश कार्तिक का करियर डंवाडोल रहा.

लेकिन घरेलू और काउंटी क्रिकेट में दिनेश कार्तिक ने शानदार प्रदर्शन जारी रखा. बतौर बैट्समैन उन्होंने टेक्नीक पर काम किया और किरण मोरे के साथ कीपिंग पर भी ध्यान देते रहे. 2006 में माही ने ब्रेक लिया तो टीम इंडिया में कार्तिक की वापसी हुई. लेकिन विरेंद्र सहवाग की फॉर्म में वापसी के बाद वो फिर से नेपथ्य में चले गए.

इसके बाद रिद्धिमान साहा और पार्थिव पटेल भी टीम में आते जाते रहे जिससे दिनेश कार्तिक के लिए अंतिम 11 में स्थायी जगह बनाना मुश्किल हो गया. लेकिन इसके बावजूद विदेशी पिचों पर दिनेश कार्तिक को जब भी मौका मिला, उन्होंने शानदार बैटिंग की. इसकी बानगी 2007 में इंग्लैंड के साथ टेस्ट सिरीज में दिखी.

तब सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और गांगुली जैसे दिग्गजों को पीछे छोड़ दिनेश कार्तिक ने सबसे ज्यादा रन बनाए. कार्तिक ने 43 की औसत से 263 रन बनाए जिसेक बूते भारत पहली बार इंग्लैंड में टेस्ट सिरीज जीत सका.

जाहिर है, इंग्लैंड की पिचों की स्विंग से डीके बखूबी वाकिफ हैं. जब सेलेक्टर्स ने पंत और डीके पर चर्चा की होगी तो 2007 का रिकॉर्ड जरूर सामने आया होगा. कार्तिक के उलट ऋषभ पंत ने पिछले साल अक्टूबर में ही इंटरनेशनल वनडे में पदार्पण किया और सिर्फ पांच मैच खेले हैं. वहीं दिनेश कार्तिक ने 91 मैचों में 1738 रन बनाए हैं.

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com