क्राइम

बच्चों की किताबें लेने घर से निकली मां, रास्ते में मिल गए दरिंदे, और फिर..

प्रतीकात्मक तस्वीर

ये दिल दहला देने वाला कांड यूपी के मुरादाबाद में हुआ है. यहां के ठाकुरद्वारा थाना क्षेत्र में बच्चों के लिए किताबें खरीदने निकली महिला बेहोशी की हालत में गन्ने के खेत में पड़ी मिली. जानकारी मिलने पर पहुंचे परिजन उसे एक निजी अस्पताल ले गए जहां कुछ देर बाद ही उसने दम तोड़ दिया.

ठाकुरद्वारा कोतवाली के ग्राम सरकड़ा करीम निवासी भूरा बैंगलूर में रहकर मेहनत मजदूरी करता है. उसकी पत्नी आयशा खातून, प्राइमरी स्कूल में पढ़ रहे बच्चों की किताबें खरीदने सुल्तानपुर दोस्त चौराहा स्थित बुक सेलर पर जा रही थी. रास्ते में ग्राम प्रधान के खेत में दरिंदों ने खींचकर उसके साथ दुष्कर्म किया. इसके बाद मरणासन्न हालत में छोड़कर फरार हो गए.

इस बीच खेत में स्प्रे कर रहे किसानों ने उसको बेहोशी की हालत में देखकर ग्रामीणों को सूचना दी. उसके कपड़े अस्त व्यस्त थे. मौके पर लोगों के साथ ही परिजन भी पहुंच गए. परिजनों ने पुलिस को सूचना दी, लेकिन पुलिस नहीं पहुंची तो परिजनों के साथ ग्रामीणों ने जाम लगा दिया. जाम की सूचना पर पुलिस आयशा को उठाकर सामुदायिक स्वाथ्य केंद्र पहुंची. सीएचीसी से डाक्टरों ने उसको जिला अस्पताल रेफर कर दिया.

परिजनों का आरोप है कि पुलिस के नहीं पहुंचने पर जिला अस्पताल में भी आयशा को भर्ती नहीं किया गया. इसके बाद परिजन उसको निजी अस्पताल ले गए. जहां पर उपचार के दौरान आयशा ने दम तोड़ दिया. उसकी मौत की सूचना मिलते ही परिवार के सदस्यों के साथ ही ग्रामीण भड़क गए. उन्होंने शव लाकर सुल्तानपुर चौराहा पर रख दिया. इसके बाद महिलाओं के साथ ग्रामीणों ने रोड जाम कर दिया. काफी देर की मशक्कत के बाद पुलिस ने महिला के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. महिला के साथ दुष्कर्म की आशंका जताई जा रही है. हालांकि असली तस्वीर तो पोस्टमार्टम के बाद ही साफ हो सकेगी.

Back to top button