क्राइम

खुद रहता दूसरी के साथ और पत्नी के चरित्र पर लगाता दाग, ऐसे हुआ किस्सा खत्म

कुछ खबरें ऐसी होती हैं, जिन पर भरोसा करना नामुमकिन सरीखा होता है. ज्यादातर ऐसी खबरें रिश्तों को शर्मसार करने वाली होती हैं, जिनके बारे में जानकर सबका सिर शर्म से झुक जाता है. अब ऐसी ही एक खबर नागपुर से आई है. यहां पति की ज्यादतियों और शक करने की आदत से तंग आकर एक महिला ने लाठियों और ईंट से हमला कर हत्या कर दी.  घटना कोतवाली थानांतर्गत झंडा चौक परिसर की है.

मृतक का नाम रवींद्र उर्फ राजू अडुलकर (53) हिंगना निवासी है. आरोपी महिला का नाम रविना उर्फ उषा रवींद्र अडुलकर (48) महल, झंडा चौक निवासी है. इस मामले में महिला के दोनों बेटों के शामिल होने की संभावना पुलिस ने व्यक्त की है. पुलिस के अनुसार, उषा अडुलकर ने अपने दोनों बेटों की मदद से पति रवींद्र अडुलकर की हत्या कर दी.

करीब दो साल से पति-पत्नी अलग रहते थे. उसे शक करने की आदत थी, जिसके चलते परिवार बिखर गया था. इन दोनों का पारिवारिक न्यायालय में मामला विचाराधीन है. रवींद्र का महल में मकान है. इसी मकान में उषा अपने बड़े बेटे अक्षय अडुलकर और छोटे बेटे अभिषेक अडुलकर (21) के साथ रहती है. रवींद्र की 5-6 दुकानें हैं. उसने किराए से इन दुकानों को दे रखा था.

रवींद्र गुरुवार को दुकानों का किराया लेने आया था. वह इस किराए की बदौलत हिंगना में जिंदगी बिता रहा था.  उषा को यह बात पता चली, तो उसने दुकानों के सामने पहुंचकर उससे विवाद किया. विवाद बढ़ने पर उषा ने बेटों के साथ मिलकर रवींद्र पर लाठियों और ईंटों से हमला कर उसे मौत के घाट उतार दिया.

जानकारी मिलते ही कोतवाली के वरिष्ठ थानेदार ज्ञानेश्वर भोसले, महिला उपनिरीक्षक तरोड़े  सहयोगियों के साथ पहुंचे. शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए शासकीय अस्पताल भेजा. कोतवाली पुलिस ने हत्या का प्रकरण दर्ज कर लिया है. रवींद्र की हत्या में उसके बेटों के शामिल होने की शंका पुलिस ने जताई है. पुलिस का कहना है कि रवींद्र  के दोनों बेटों की भूमिका की जांच हो रही है.

 

 

Back to top button