ख़बरदेश

राज्यपाल ने राहुल गांधी को दिया कश्मीर आने का न्यौता, और खुद जाल में फंस गए ‘मालिक जी’ !

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के कश्मीर आने के न्यौते को कबूल कर लिया है. बुधवार को एक ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा कि ‘डियर मालिक जी, मैंने अपने ट्वीट पर आपका जवाब देखा.’ उन्होंने लिखा, ‘मैं जम्मू-कश्मीर आकर लोगों से मिलने के आपके न्यौते को बिना किसी शर्त के स्वीकार करता हूं. ये बताएं कि मैं कब आऊं?’

दरअसल 11 तारीख को कश्मीर पर राहुल गांधी ने कहा था, जम्मू-कश्मीर में हिंसा से जुड़ी कुछ खबरें आई हैं. ऐसी बातों पर प्रधानमंत्री मोदी को बिल्कुल पारदर्शिता के साथ लोगों की चिंताओं से जुड़े जवाब देने चाहिए.

राहुल के इसी बयान पर गवर्नर सत्यपाल मलिक नाराज़ हो गए. जवाब में गवर्नर ने कहा- मैंने राहुल गांधी को यहां आने का न्योता दिया है. मैं उनके लिए एक प्लेन भेज दूंगा, ताकि वो उसमें बैठकर यहां आएं और खुद ज़मीनी हकीकत देख लें और फिर बोलें. राहुल, आप जिम्मेदार इंसान हैं और आपको इस तरह की बातें नहीं करनी चाहिए.

बस, राहुल ने इसी न्यौते को अब कबूल कर लिया है. लेकिन इसके बाग फिर एक नई बात हुई. सत्यपाल मलिक ने राहुल पर इस पूरे मामले का राजनीतिकरण करने का इल्ज़ाम लगा दिया. वो बोले कि राहुल ने घाटी आने से पहले ही कई सारी शर्तें रख दी हैं. इन शर्तों में हिरासत में रखे गए मुख्यधारा के कश्मीरी नेताओं से मिलने की कंडीशन भी शामिल है.

गर्वनर ऑफिस से जारी हुए बयान के मुताबिक- राहुल गांधी शायद कश्मीर की स्थितियों को लेकर सरहद पार (पाकिस्तान) से फैलाई जा रही फर्जी खबरों पर प्रतिक्रिया कर रहे थे. कुछ छोटी-मोटी नगण्य सी घटनाओं को छोड़कर यहां स्थितियां शांतिपूर्ण हैं. राहुल इस मामले में कई सारे भारतीय चैनलों द्वारा की गई रिपोर्ट्स देख सकते हैं. वो घाटी में सही स्थिति से जुड़ी रिपोर्टिंग कर रहे हैं.

जाहिर है, सत्यपाल मलिक को समझ आ गया कि राहुल गांधी ने उनका निमंत्रण स्वीकार करके उनके लिए आफत ला दी है. इसीलिए अब वो बाल की खाल निकाल रहे हैं.

Back to top button