विवेक तिवारी हत्याकांड में एक और बड़ा खुलासा, एक पुलिसवाले ने बताई ये सच्चाई 

0
297

तीन के बयान एक जैसे, एक के अलग!

लखनऊ।  दिन पर दिन लखनऊ हत्याकांड में कुछ न कुछ नए खुलासे हो रहे है. इस केस के मामले की जांच कर रही एसआईटी कर रही  हैं। अभी तक एसआईटी के अधिकारी विवेक तिवारी मर्डर केस में मुख्य आरोपी प्रशांत चौधरी, दूसरे आरोपी संदीप कुमार और एकमात्र चश्मदीद गवाह सना खान के बयान दर्ज कर चुके हैं। सोमवार को विवेचक ने घटना वाली रात लखनऊ के गोमतीनगर थाने में मौजूद चार पुलिसकर्मियों के बयान दर्ज किए। करीब ढाई घंटे तक चली पूछताछ में इन चारों पुलिसकर्मियों ने अपने बयानों में विस्तार से उस रात का पूरा विवरण बताया।

तीन के बयान एक जैसे, एक के अलग!

पुलिस से जुड़े सूत्रों ने बताया कि एसआईटी के सामने जिन चार पुलिसकर्मियों के बयान दर्ज किए गए हैं, वो चारों पुलिसकर्मी घटना वाली रात गोमतीनगर थाने में मौजूद थे। पूछताछ में चारों पुलिसकर्मियों ने विवेक तिवारी को गोली लगने की सूचना मिलने से लेकर, थाने में प्रशांत चौधरी के पहुंचने, वरिष्ठ अधिकारियों के आने, सना खान की तहरीर लिखे जाने और सुबह दोनों आरोपी सिपाहियों की गिरफ्तारी तक का पूरा घटनाक्रम बताया। सूत्रों के मुताबिक चारों सिपाहियों में से तीन के बयान एक जैसे ही थे, लेकिन एक सिपाही ने अपने बयान में कुछ अलग और नई बातें बताईं।

अधिकारियों ने राखी मलिक के व्यवहार के बारे में पूछा

सूत्रों का कहना है कि जिस सिपाही ने एसआईटी के सामने तीनों सिपाहियों से अलग बयान दिया, अधिकारियों ने उससे विवेक तिवारी मर्डर केस में मुख्य आरोपी प्रशांत चौधरी की पत्नी राखी मलिक के व्यवहार के बारे में भी सवाल किए। एसआईटी के अधिकारियों ने उस सिपाही से पूछा कि क्या राखी ने घटना के बाद सना खान से कोई सवाल जवाब किए थे? बताया जा रहा है कि इस मामले में अभी कुछ और पुलिसकर्मियों के बयान भी दर्ज किए जा सकते हैं। इसके अलावा सोमवार को इस मामले की मजिस्ट्रेटी जांच कर रहे एसीएम चतुर्थ सलिल पटेल ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने घटनास्थल के आसपास मौजूद दुकानदारों के बयान भी दर्ज किए।

प्रशांत की पत्नी राखी ने की पुलिसकर्मियों से अपील

वहीं, सोमवार को मुख्य आरोपी प्रशांत चौधरी की पत्नी राखी मलिक ने अपने फेसबुक अकाउंट पर एक वीडियो संदेश के जरिए यूपी पुलिस के सिपाहियों से विरोध रोकने की अपील की। राखी ने वीडियों मे कहा, ‘यूपी पुलिस के सभी सिपाहियों और कर्मचारियों से मेरी अपील है कि कृप्या अनुशासन में रहकर अपने कर्तव्य का पालन करें। पुलिस विभाग अनुशासन पर ही कायम है, उसे बनाए रखें। इस मामले में जो भी जांच चल रही है, मुझे उसपर पूरी तरह विश्वास है। आप सभी लोगों से अपील है कि जो भी विरोध कर रहे हैं, उसे तुरंत बंद कर दें और मर्यादा में रहकर अपने कर्तव्य का पालन करें। किसी के बहकावे में ना ही मैं आ रही हूं और ना ही आप आएं।’