खेल

आतंकी हमले पर सहवाग की पाक को खुली चेतावनी, कहा-अब बर्दाश्त करने की सीमा खत्म

सुरक्षाबलों पर आतंकी हमले के बाद पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने दी पाकिस्तान को चेतावनी

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए हैं जबकि 40 घायल हुए हैं। इस हमले की जिम्मेवारी आतंकी संगठन जैश-ए- मोहम्मद ने ली है। इस आतंकी हमले पर जहा पूरे देश में पाक के खिलाफ उबाल है वही  भारत के पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर के साथ वीरेंद्र सहवाग ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है. सहवाग ने सोशल मीडिया पर ट्वीट कर शहीद जवानों के परिवार वालों के लिए अपना दुख प्रकट किया.

सहवाग ने ट्वीट कर कहा,

‘आतंकवादियों के इस कायरतापूर्ण हमले से मन दुखी है. इस हमले में हमारे सीआरफीएफ के कई जवान शहीद हो गए. इस दर्द को बयां करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं है.’

सहवाग के अलावा पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने भी पाकिस्तान को खुली चुनौती दी है. इस हमले से आहत गंभीर ने कहा है कि पाकिस्तान समर्थित इस आंतवादी हमले की भारत को मूंहतोड़ जवाब देना चाहिए.

गंभीर ने ट्वीट कर लिखा, ‘हां, बात करते हैं अलगाववादियों से, बात करते करते हैं पाकिस्तान से लेकिन इस बार बातचीत टेबल पर नहीं बल्की मैदान ए जंग में होनी चाहिए. अब बर्दाश्त की करने की सीमा खत्म हो गई है.’

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में अवंतीपोरा के गोरीपोरा इलाके में सुरक्षाबलों के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने हमला किया. इस धमाके में 18 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए और 35 से ज्यादा जवान घायल हो गए हैं.

आतंकियों ने सीआरपीएफ की बस को आईडी ब्लास्ट से उड़ा दिया.

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा के अवंतीपुरा में ये हमला उस वक्त हुआ जब सीआरपीएफ के जवानों को श्रीनगर से पुलवामा ले जाया जा रहा था. इस काफिले में सीआरपीएफ की करीब 39 गाड़ियां थीं. इस काफिले में सीआरपीएफ की 54वीं, 179वीं और 34वीं बटालियन एक साथ जा रही थीं.

खबरों के मुताबिक एक छोटी गाड़ी में फिदायीन हमलावर बैठा हुआ था और वो विस्फोटक से भरी गाड़ी लेकर बस से टकरा गया. इस ब्लास्ट के बाद आतंकियों ने फायरिंग भी की.

जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है. जैश-ए-मोहम्मद ने कहा है कि ये एक फिदायीन हमला है. बता दें कि 2004 के बाद से जम्मू-कश्मीर में फिदायीन हमला नहीं हुआ था.

Back to top button