खेल

भारत की विंडीज पर सबसे बड़ी जीत के साथ विराट बने ‘द बेस्ट’, माही की बराबरी

विराट ब्रिगेड (BCCI)

उपकप्तान अजिंक्या रहाणे (102 रन) और हनुमा विहारी (93 रन) शानदार पारियों के बाद तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह (7 रन पर 5 विकेट) की कातिलाना गेंदबाजी से भारत ने वेस्ट इंडीज को पहले क्रिकेट टेस्ट के चौथे दिन रविवार को अंतिम सत्र में 100 रन पर ढेर कर 318 रन से ऐतिहासिक जीत हासिल कर ली। भारत ने दूसरे सत्र में अपनी दूसरी पारी सात विकेट पर 343 रन पर घोषित कर मेजबान टीम के सामने 419 रन का बेहद मुश्किल लक्ष्य रख दिया था जिसका पीछा करते हुए विंडीज की टीम चायकाल तक अपने पांच विकेट मात्र 15 रन पर गंवाने के बाद उबर नहीं सकी और चायकाल के बाद 26।5 ओवर में 100 रन पर ढेर हो गयी।

भारत ने इस तरह विंडीज पर रनों के लिहाज से अपनी सबसे बड़ी जीत हासिल कर दो मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली। भारत की ओवरआल रनों के लिहाज से यह चौथी सबसे बड़ी जीत है। भारत को इस जीत से 60 अंक मिले। आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप के तहत दो टेस्टों की सीरीज में एक टेस्ट में जीत से 60 अंक मिलते हैं। भारत की दोनों पारियों में 81 और 102 बनाने वाले रहाणे को प्लेयर ऑफ द मैच का पुरस्कार मिला।

बुमराह ने आठ ओवर में मात्र सात रन देकर पांच विकेट झटके और दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बाद वेस्ट इंडीज के अपने पहले दौरे में एक पारी में पांच विकेट झटक लिए। पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले इशांत शर्मा ने 31 रन पर 3 विकेट और मोहम्मद शमी ने 13 रन पर दो विकेट निकाले। भारत ने विंडीज की दूसरी पारी 100 रन पर समेट दी।

भारत की रनों के लिहाज से उसके टेस्ट इतिहास की यह चौथी सबसे बड़ी जीत है। भारत इस मुकाबले में अपनी सबसे बड़ी जीत हासिल करने से चूक गया। इससे पहले उसने दक्षिण अफ्रीका को चेन्नई में 2015 में 337 रन से हराया था जो उसकी सबसे बड़ी टेस्ट जीत थी। कप्तान विराट कोहली ने इस जीत के साथ महेंद्र सिंह धोनी के 27 टेस्ट जीतने के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली।

टेस्ट क्रिकेट में भारत की सबसे बड़ी जीत (रनों के लिहाज से)

 मार्जिन  विरुद्ध  स्थान वर्ष
 337  साउथ अफ्रीका  दिल्ली  2015
 321  न्यूजीलैंड  इंदौर  2016
 320  ऑस्ट्रेलिया  मोहाली  2008
 318  वेस्टइंडीज  एंटीगा  2019

इसके साथ ही विराट कोहली ने खेल के सबसे लंबे प्रारूप में भारत के लिए सबसे ज्यादा जीत हासिल करने के महेंद्र सिंह धोनी के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। कोहली ने भारतीय टीम के कप्तान के तौर पर 47 मैचों में 27 जीत दर्ज कर ली है, जबकि धोनी के नाम 60 मैचों में इतनी जीत हैं. साथ ही कोहली विदेशी धरती पर सबसे सफल टेस्ट कप्तान भी बन गए हैं।

 कप्तान  टेस्ट  जीते  हारे  टाई  ड्रॉ
 विराट कोहली  47  27  10  0  10
 एमएस धोनी  60  27   18  0  15
 सौरव गांगुली  49  21  13  0  15
 मो. अजहरुद्दीन  47  14  14 0  19
 सुनील गावस्कर  47  9  8  0  30

विराट कोहली ने कप्तान के तौर पर एक और रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। वह विदेशी धरती पर सर्वाधिक जीत हासिल करने वाले भारतीय कप्तान बन गए हैं। उन्होंने सौरव गांगुली को पीछे छोड़ा, जिन्होंने भारत से बाहर 11 टेस्ट मैचों में जीत पाई थी। गांगुली ने जहां 28 मैचों में 11 टेस्ट मैचों में जीत हासिल की थी, वहीं कोहली ने 26 मैचों में 12 टेस्ट मैच जीतने का कारनामा किया है।

भारतीय कप्तानः भारत से बाहर सर्वाधिक जीत

12 टेस्ट में जीत, विराट कोहली ( कुल 26 टेस्ट)

11 टेस्ट में जीत, सौरव गांगुली (कुल 28 टेस्ट)

6 टेस्ट में जीत, एमएस धोनी ( कुल 30 टेस्ट)

5 टेस्ट में जीत, राहुल द्रविड़ ( कुल 17 टेस्ट)

कोहली सबसे पहले टेस्ट में भारतीय टीम के कप्तान बने थे. 2014 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर धोनी के टेस्ट से संन्यास के बाद कोहली को टेस्ट टीम की कमान सौंपी गई थी।

अपनी कप्तानी में कोहली ने भारत को अपने घर में ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड में जीत दिलाई है। हालांकि दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में क्रमशः 1-2 और 1-4 से उन्हें हार मिली थी। कोहली ने बीते साल भारत को ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट में 2-1 से ऐतिहासिक जीत दिला 71 साल के सूखे को खत्म किया था।

भारतीय टीम ने मौजूदा दौरे की टेस्ट सीरीज में 1-0 से बढ़त हासिल कर ली है. अब वह टेस्ट सीरीज में भी वेस्टइंडीज का 2-0 से सूपड़ा साफ करने उतरेगी. दो टेस्ट मैचों की सीरीज का दूसरा और अंतिम टेस्ट 30 अगस्त से 3 सितंबर तक किंग्सटन (जमैका) में खेला जाएगा।उल्लेखनीय है कि विराट ब्रिगेड ने इस दौरे की टी-20 और वनडे सीरीज पर क्रमशः 3-0 और 2-0 से कब्जा जमाया था।

Back to top button