Breaking News
Home / ख़बर / मोदी सरकार ने मान लीं ये 5 मांग, प्रदर्शन खत्म कर वापस लौटे किसान

मोदी सरकार ने मान लीं ये 5 मांग, प्रदर्शन खत्म कर वापस लौटे किसान

अपनी कई मांगो को लेकर उत्तर प्रदेश से राजधानी दिल्ली पहुंचे किसानों ने फिलहाल प्रदर्शन खत्म कर दिया है. मोदी सरकार ने किसानों की 15 में से पांच मांगों को मान लिया है. जिसके बाद किसानों ने प्रदर्शन बंद कर दिया लेकिन किसानों का कहना है, सरकार ने पूरी मांगे नहीं मानी हैं इसलिए यह प्रदर्शन स्थायी रूप से नहीं बंद नहीं हुआ है. बाकी मांगों को लेकर दस दिन बाद वह प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे. बता दें कि, हजारों किसान 15 सूत्रीय मांगों को मोदी सरकार के सामने रखने के लिए सहारनपुर से पैदल यात्रा करते हुए शनिवार को दिल्ली पहुंचे थे.

किसान संगठनों की ये थीं प्रमुख मांगें-

  1. भारत के सभी किसानों के कर्जे पूरी तरह माफ हों.
  2. किसानों को सिंचाई के लिए बिजली मुफ्त मिले.
  3. किसान व मजदूरों की शिक्षा एवं स्वास्थ्य मुफ्त
  4. किसान-मजदूरों को 60 वर्ष की आयु के बाद 5,000 रुपये महीना पेंशन मिले.
  5. फसलों के दाम किसान प्रतिनिधियों की मौजूदगी में तय किए जाएं.
  6. खेती कर रहे किसानों की दुर्घटना में मृत्यु होने पर शहीद का दर्जा दिया जाए.
  7. किसान के साथ-साथ परिवार को दुर्घटना बीमा योजना का लाभ मिले.
  8. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाईकोर्ट और एम्स की स्थापना हो.
  9. आवारा गोवंश पर प्रति गोवंश गोपालक को 300 रुपये प्रतिदिन मिलें.
  10. किसानों का गन्ना मूल्य भुगतान ब्याज समेत जल्द किया जाए.
  11. समस्त दूषित नदियों को प्रदूषण मुक्त कराया जाए.
  12. भारत में स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू हो.

दिल्ली आए किसानों के 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने कृषि भवन में जाकर कृषि मंत्रालय के अधिकारियों से मुलाकात कर अपनी मांग रखी. सरकार के अधिकारियों से बातचीत के बाद किसानों के प्रतिनिधियों ने कहा कि सरकार ने उनकी 5 मांगें मान ली हैं. इसके बाद किसानों ने अपना आंदोलन खत्म करने का ऐलान किया.

बता दें कि किसानों को दिल्ली में घुसते ही बॉर्डर पर रोक लिया गया था. किसान सैकड़ों की तादाद में दिल्ली बॉर्डर पर धरने पर बैठ गए थे. उनकी मांगें थी कि सरकार उनसे बात करे या फिर उन्हें दिल्ली के किसान घाट जाने दिया जाए. इसके बाद किसानों के 11 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को दिल्ली पुलिस की गाड़ी में कृषि मंत्रालय ले जाया गया जहां उन्होंने अपनी मांगें रखीं.

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com