जिस IPS ने योगी पर लगाई थी रासुका, उसे यूपी सरकार ने सस्पेंड किया

0
49

आईपीएस जसवीर सिंह का विवादों से पुराना नाता रहा है (फाइल फोटो)

योगी सरकार द्वारा ईमानदारी से काम करने वालेे अपर पुलिस महानिदेशक जसवीर सिंह को निलंबित कर दिया है. उन पर सेवा नियमावली का उल्लंघन करने का आरोप है. 1992 बैच के आईपीएस जसवीर सिंह पहले से भी कई बार विवादों में रहे हैं. इससे पहले वह जनहित याचिका दायर करने के कारण सुर्खियों में आए थे. इस मामले में जसवीर सिंह के विरूद्ध उत्पीडऩ की कार्रवाई करने की निंदा भी की थी ।

इस बार जसवीर सिंह पर आरोप है

उन्होंने किसी अखबार को इंटरव्यू दिया है. जिसमें उन्होंने कुछ आपत्तिजनक बातें कही हैं और बिना बताये छुट्टी पर चले गए थे. जानकारी मुताबिक उन्हें 14 फरवरी को ही निलंबित कर दिया गया था. आईपीएस अधिकारी जसवीर सिंह मूलत: पंजाब के होशियारपुर के रहने वाले हैं.

गौरतलब है कि जसवीर सिंह वर्ष 2002 में महराजगंज के पुलिस अधीक्षक थे. उस दौर में उन्होंने गोरखपुर के तत्कालीन सांसद और वर्तमान में यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर रासुका लगाई थी. हालांकि योगी पर रासुका लगाने के अगले दिन ही जसवीर सिंह का तबादला फूड सेल में कर दिया गया था.

अब उन्हें 30 जनवरी को हफिंगटन पोस्ट वेबसाइट को विवादित इंटरव्यू देने की वजह से निलंबित किया गया है. साथ ही उन पर बिना बताए छुट्टी पर चले जाने का भी आरोप है. आपको बता दें कि जसवीर सिंह तब सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने 1997 में प्रतापगढ़ में एसपी रहते हुए कुंडा के विधायक राजा भैया पर शिकंजा कसा था. जसवीर सिंह यूपी पुलिस के बेहद ईमानदार अधिकारी माने जाते हैं.