अच्छे दिनों के फर्जी वादों पर गडकरी की सफाई- राहुल कब से समझने लगे मराठी, दोबारा देखिए video

655

बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष और केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने राहुल गांधी की ओर से लगाए गए आरोपों पर सफाई दी है. राहुल गांधी ने गडकरी का एक वीडियो ट्वीट कर आरोप लगाया था कि सरकार ने जनता के भरोसे को अपने लोभ का शिकार बनाया है. राहुल के शेयर किए वीडियो में नितिन गडकरी चुनावी वायदों पर टिप्पणी करते दिख रहे हैं. सोशल मीडिया पर कथित तौर पर एक वीडियो वायरल है, जिसमें यह कहा जा रहा है कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी यह मान रहे हैं कि उनकी मोदी सरकार ने सत्ता में आने के लिए झूठे वादे किये, मगर अब इस पर बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने खुद बयान दिया है.

वायरल वीडियो और वादों को लेकर अपने बयान पर नितिन गडकरी का कहना है कि यह पूरी तरह निराधार है. यह झूठ है. उन्होंने ऐसा कुछ भी कहा नहीं. बता दें कि कांग्रेस ने हालही में एक वीडियो को शेयर करते हुए लिखा था कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को इस बात से सहमत होते हुए देख अच्छा लग रहा है कि मोदी सरकार झूठे वादों और जुमलों की बुनियाद पर खड़ी हुई है.

2014 चुनाव में किये गये बीजेपी के वादों से संबंधित मीडिया में अपने कथित बयान लेकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को कहा कि यह झूठ है. मैंने मोदी जी और 15 लाख रुपये को लेकर ऐसा कुछ भी नहीं कहा है. कार्यक्रम मराठी में था और मैं हैरान हूं कि राहुल गांधी कब से मराठी समझने लगे?

नितिन गडकरी ने आगे कहा कि ‘मेरे वादे को लेकर कभी किसी ने नहीं सवाल किया. महाराष्ट्र में चुनाव के समय मुंडे जी और देवेंद्र जी ने कहा कि टोल माफ कर दीजिए, ऐसा बोल दें. मैंने कहा ऐसा नहीं करना चाहिए, नुकसान होगा तो वे लोग बोले- अरे हमलोग सत्ता में कहां आने वाले हैं. उसमे किसी सरकार की बात नहीं थी, मोदी जी की बात नहीं थी. 15 लाख की बात नहीं थी. देवेंद्र जी ने बाद में टोल माफ भी किया. राहुल जी से अनुरोध है मराठी सीखे या समझना शुरू करें. ताकि आगे से ऐसी गलती ना हो. बिना समझे मेरा अभिनंदन भी कर दिया.’

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को नितिन गडकरी का एक वीडियो साझा किया. राहुल गांधी ने वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन दिया- सही फ़रमाया, जनता भी यही सोचती है कि सरकार ने लोगों के सपनों और उनके भरोसे को अपने लोभ का शिकार बनाया है.