उत्तर प्रदेश

जेल से आए पति ने किया अंतिम संस्कार, बोले- विधायक खा गया मेरा पूरा परिवार

उन्नाव दुष्कर्म कांड की पीड़ित युवती की चाची का बुधवार को अंतिम संस्कार शुक्लागंज के मिश्रा घाट पर हुआ। रायबरेली जेल से पैरोल पर अंतिम संस्कार में पहुंचे पीड़ित के चाचा महेश ने पत्नी को मुखाग्नि दी। घाट पर सुरक्षा को लेकर पुलिस का कड़ा बंदोबस्त रहा। इस बीच बता दे उन्नाव रेप केस में पीड़िता के चाचा ने कहा कि बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर मेरे पूरे परिवार को खा गया, अब सिर्फ मैं ही बचा हूं।

रायबरेली में हुए पीड़ित युवती की कार एक्सीडेंट में चाची और मौसी की मृत्यु हो गयी थी जबकि युवती और उसके अधिवक्ता महेन्द्र सिंह गंभीर रूप से घायल हैं और उनका इलाज लखनऊ ट्रामा सेंटर में चल रहा है। पीड़ित व अधिवक्ता की हालत में कोई सुधार नहीं है। इधर बुधवार को पीड़ित युवती की चाची का शव लेकर पुलिस गांव पहुंची। इसके बाद शव को शुक्लागंज के मिश्रा गंगाघाट ले जाया गया। पत्नी को अंतिम मुखग्नि देने के लिए हाईकोर्ट से पैरोल मिलने के बाद रायबरेली जेल पुलिस महेश को कड़ी सुरक्षा में लेकर शुक्लागंज घाट पहुंची।

यहां पर जिलाधिकारी देवेंद्र पांडेय व पुलिस अधीक्षक एमपी वर्मा के साथ एडीएम राकेश सिंह और एएसपी विनोद पांडेय भी मौजूद रहे। घाट के मार्ग पर अंत्येष्टि स्थल तक पुलिस का कड़ा पहरा लगा रहा। मुखाग्नि देने के बाद पुलिस ने चाचा को अपने साथ ले चलने का जब दबाव बनाया तो वह इसको लेकर पुलिस पर भिड़ गये। उन्होंने कहा कि जब तब उनकी पत्नी की चिता पूरी नहीं जल जाती, वो यहां से कहीं भी नहीं जायेंगे। इस पर डीएम व एसपी ने मामले को शांत कराया।

Back to top button