10 हजार कॉल को ट्रेस कर, पकड़े गये विधानसभा के सामने आलू फेंकने वाले

लखनऊ के विधानसभा मार्ग के साथ ही अन्य वीआईपी सड़कों पर आलू फेंकने के मामले में सपा की साजिश सामने आ गयी है. पुलिस ने कल रात कन्नौज से दो लोगों को गिरफ्तार किया है. सूबे की राजनीति को गरमाने वाले इस मामले में पुलिस को बड़ी सफलता मिली है. इससे तय होगया है कि यह बड़ी साजिश सपा के नेताओं ने रची थी. बताया जा रहा है कि आलू फेंकने की योजना अखिलेश यादव के दो करीबी नेताओं ने मिलकर बनायी थी. पकड़े गए दो लोग में एक अंकित चौहान सपा का कार्यकर्ता है, जबकि दूसरा आरोपी प्रदीप लोडर मालिक है. अंकित तिर्वा कोतवाली के फगुहा भट्टा गांव का रहने वाला है.

एसएसपी ने किया खुलासा

आलू कांड का खुलासा करते हुए एसएसपी ने कहा कि सीओ हजरतगंज अभय कुमार मिश्रा ने करीब 10 हजार से ज्यादा नम्बरों को खंगाला. उसमें एक संदिग्ध नंबर संतोष पाल का मिला. जांच के दौरान बात साफ हो गई कि संतोष की गाड़ी सुबह 3.45 बजे इसी इलाके में सुबह में मिली थी.बता दें कि बीती 6 जनवरी को लखनऊ पुलिस के उस समय होश उड़ गए जब विधानसभा और राजभवन के सामने कई कुंटल आलू फैला पड़ा था.

10 हजार कॉल को ट्रेस कर पकड़े अालू फेंकने वाले

Advertisement

एसएसपी ने खुलासा करते हुए बताया कि इस मामले में रास्ते में पड़ने वाले सीसीटीवी कैमरों की जब देखा गया तो उसमें आलू लाने वाली गाड़ी का नंबर पुलिस को मिला. जांच में पता चला कि सीसीटीवी फुटेज में दिखी गाड़ी कन्नौज की है. पुलिस ने पता लगाया और फिर आरोपियों को पकड़ा. आरोपी ने कबूला कि हम लोगों ने आलू फेंका था.

advt

 

एसएसपी ने बताया कि पूरी साजिश कन्नौज की जिला पंचायत अध्यक्ष शिल्पी कटियार के पति व सपा नेता संजू कटियार ने रची थी. संजू कटियार के साथ इस साजिश में कन्नौज के तिर्वा से जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव लड़ चुके शिवेन्द्र सिंह उर्फ कुक्कू चौहान भी शामिल थे. साजिश के तहत इन सपा नेताओं ने सबसे पहले कन्नौज के ठठिया कोल्ड स्टोरेज से खराब आलू को खरीदा और संतोष पाल के मिनी ट्रक में आलू लादकर लखनऊ ले आये.

अखिलेश ने कसा तंज…

अखिलेश ने कहा- “प्रदेश में किसान परेशान है. अगर किसी ने इसका विरोध किया तो कप्तान ने क्या बड़ा काम किया. अपराधियों को पकड़ने की इनकी हैसियत नहीं है. मैं इस कप्तान को अगली बार यश भारती दूंगा. मैं अपील करूँगा कि एक-एक बोरी आलू डीएम को भी दे दें. इन्हें पता नहीं है कि किसानों ने लोन लिया हुआ है. कोल्ड स्टोर में आलू सड़ रहा है. समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता किसान हैं. अगर वह लखनऊ आलू लाए तो क्या गलत किया.”