मंगलवार को चौथा बजट पेश करेंगे योगी, सबसे ज्यादा इन पर रहेगा फोकस

0
44

लखनऊ. मंगलवार को योगी सरकार अपने कार्यकाल का चौथा बजट पेश करेगी, जिससे महिलाओं व किसानों को काफी उम्मीदें हैं, लेकिन माना जा रहा है कि नौजवानों व बेरोजगारों पर यह बजट केंद्रित होगा। बजट में इसके अंतर्गत इंरटर्नशिप व प्लेसमेंट जैसी योजनाओं का ऐलान भी किया जा सकता है।

वहीं बजट में इस बार प्राथमिक शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार पर अधिक धनराशि दिए जाने के संकेत हैं। पिछड़े हिस्से पूर्वांचल और बुंदेलखंड में सड़क, बिजली, पानी व अन्य जरूरतों के लिए विशेष पैकेज के तहत बड़ी धनराशिभी दी जा सकती है। इसी के साथ ही प्रदेश में पांच एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए भी करोड़ो रुपयों का ऐलान किया जा सकता हैं। तो वहीं अयोध्या का विकास भी सरकार के बजट में शामिल होगा। कुल बजट लगभग 5.25 लाख करोड़ रुपए के आसपास होने का अनुमान है, जो यूपी में अभी तक का सबसे बड़ा बजट होगा।

नौजवानों व बेरोजगारों पर फोकस-
चौथे बजट में सरकार का फोकस युवाओं पर केंद्रित होने की उम्मीद है। इसमें युवाओं को नौकरी व स्वरोजगार के लिए प्रेरित करने से संबंधित कई योजनाओं के एलान किया जा सकता है। बजट में हाईस्कूल, इंटरमीडिएट व ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने वाले युवाओं के लिए इंटर्नशिप स्कीम का एलान होगा। जिसमें उन्हें 2500 रुपए दिए जाएंगे। इसके बाद उन्हें प्लेसमेंट भी दी जाएगी। सीएम योगी इसका ऐलान गोरखपुर में पहले ही कर चुके हैं। इसे बजट में शामिल कर लिया गया है।

भरे जाएंगे रिक्त पद-
भर्ती के लिए बेसिक, माध्यमिक व उच्च शिक्षा के लिए नया शिक्षा सेवा चयन आयोग बना दिया गया है। इसके लिए भी बजट में कुछ हिस्सा है। इसे तीनों ही स्तर पर रिक्त शिक्षकों व कर्मचारियों के रिक्त पदों के भरने का काम अभियान पूर्वक शुरू कराया जाएगा। पुलिस व अन्य विभागों के रिक्त पदों को भरने के लिए भी विभागों को बजट मिलेगा। इसके अतिरिक्त अटल चिकित्सा विश्वविद्यालय भी रफ्तार पाएगा। श्रमिकों के बच्चों की गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए मंडल स्तर पर अटल आवासीय विद्यालयों का शिलान्यास हो चुका है। जिसके लिए बजट दिया जा रहा है। बताया जा रहा है कि इन योजनाओं से सभी श्रेणी व वर्ग के युवाओं को पास में अपनी पसंद की शिक्षा, नौकरी और रोजगार के अवसर मिलेंगे और अभिभावकों का खर्च कम होगा।

एक्सप्रेस-वे निर्माण-
यूपी के विकास को गति देने के लिए योगी सरकार एक्सप्रेस-वे का नेटवर्क बिछा रही है। यूपी में एक साथ पांच एक्स्प्रेसव -पूर्वांचल, बुंदेलखंड, गोरखपुर-लिंक, गाजीपुर से बलिया लिंक एक्सप्रेसवे, गंगा एक्सप्रेस वे- के निर्माण कार्य हो रहे हैं। इसके लिए करीब 75000 करोड़ रुपए का प्रावधान है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे इस वर्ष दिवाली पर आम जनता के लिए खुल जाएगा। वहीं बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का 29 फरवरी को शिलान्यास होजा है। मेरठ से प्रयागराज तक प्रस्तावित गंगा एक्सप्रेस-वे का निर्माण भी साल के अंत में शुरू करने की तैयारी है। इन सभी एक्सप्रेसवे का दो से तीन वर्षों में पूरा होने का अनुमान है। जिसके बाद प्रदेश की अर्थव्यवस्था का बड़ा बूम मिलेगा। ऐसे में योगी सरकार इस बजट में बड़ा ऐलान कर सकती है।

धार्मिक पर्यटनों को दिया जाएगा बढ़ावा-

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के अपने एजेंडे को योगी सरकार धार देने में लगी है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ हुआ है। राम मंदिर के निर्माण और श्री राम की प्रतिमा से जुड़े प्रोजेक्ट ही नहीं बल्कि अयोध्या में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए भी सरकार उदारता दिखा सकती है। काशी व मथुरा में धार्मिक पर्यटन भी सरकार के फोकस में रहने की उम्मीद है।