ख़बरदेश

भारत के तीन रत्न : प्रणव मुखर्जी के साथ इन दो हस्तियों को मरणोपरांत मिला ‘भारत रत्न

Pranab Mukherjee Bharat Ratna Award; Pranab Mukherjee, Nanaji Deshmukh, Bhupen Hazarika, Bharat Ratna Award Today News U

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को आज यहां देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से अलंकृत किया। उनके अलावा समाजसेवी नानाजी देशमुख और संगीतकार एवं गीतकार भूपेन हजारिका को मरणोपरांत इस अलंकरण से सम्मानित किया गया। राष्ट्रपति भवन में एक आकर्षक समारोह में कोविंद ने प्रशस्ति पत्र तथा प्रतीक चिन्ह प्रदान किये।

इन तीनों विभूतियों को सत्तरवें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भारत रत्न से विभूषित करने की घोषणा की गयी थी।  मुखर्जी यह सर्वोच्च नागरिक सम्मान पाने वाले पांचवें राष्ट्रपति हैं। पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एस राधाकृष्णन, डॉ. राजेंद्र प्रसाद, डॉ. जाकिर हुसैन और वीवी गिरि को मिल यह सम्मान मिल चुका है। 20 साल बाद दो से ज्यादा हस्तियों को यह भारत रत्न दिया जा गया। इससे पहले 1999 में समाजवादी नेता जयप्रकाश नारायण, सितारवादक पंडित रविशंकर, अर्थशास्त्री डॉ. अमर्त्य सेन और स्वतंत्रता सेनानी रहे गोपीनाथ बोरदोलोई को इस सम्मान के लिए चुना गया था।

भूपेन हजारिका को मरणोपरांत यह सम्मान मिला. उनके बेटे तेज हजारिका ने अपने पिता के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों सम्मान ग्रहण किया. नानाजी देशमुख की ओर से दीनदयाल रिसर्च इंस्टीट्यूट के चेयरमैन वीरेंद्रजीत सिंह ने यह सम्मान ग्रहण किया।

बता दें कि 2017 में राष्ट्रपति पद से रिटायर हुए प्रणब मुखर्जी को भारत रत्न देने का फैसला चौंकाने वाला रहा. दरअसल, प्रणब मुखर्जी की गिनती कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में से होती रही है, जो अपने पूरे राजनीतिक जीवन में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी की विचारधारा के खिलाफ लड़ते रहे। हालांकि, प्रणब मुखर्जी के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अच्छे संबंध रहे हैं।

नानाजी देशमुख भारतीय जनसंघ के विचारक और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के संस्थापक सदस्यों में से एक रहे हैं, तो वहीं भूपेन हजारिका प्रसिद्ध असमिया कवि और संगीतकार थे. नानाजी देशमुख और भूपेन हजारिका को यह सम्मान मरणोपरांत मिला है।

भूपेन हजारिका असम के गीतकार, संगीतकार, गायक, कवि और फिल्म-निर्माता थे. उन्होंने कला के क्षेत्र में बड़ी उपलब्धियां हासिल की हैं. उन्होंने असम की संस्कृति को कला के जरिए व्यापक पैमाने तक पहुंचाया. संगीतकार, गायक, एक्टर और फिल्म निर्देशक के रूप में वे सक्रिय रहे।

जानकारी के लिए बताते  चले  भारत रत्न भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह सम्मान राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इन सेवाओं में कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल शामिल है. इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी. पहला भारत रत्न डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को दिया गया था. आइये जानते हैं अब तक किन-किन शख्सियतों को भारत रत्न से सम्मानित किया जा चुका है।

Back to top button