उत्तर प्रदेशख़बर

राहुल गांधी के लिए ये क्या बोल गए योगी, अब बवाल पक्का !

Yogis taunt on Rahul: He feels like potato also brings fruit

भाजपा ने रविवार से लोकसभा चुनावों को लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अपने चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत कर दी। सहारनपुर जनपद के बेहट में मां शाकंभरी देवी के दर्शन करने के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा, बसपा और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। केंद्र व राज्य सरकार को विकास का पर्याय बताते हुए उन्होंने कहा कि पहले आतंकियों को बिरयानी खिलाई जाती थी, लेकिन अब मोदी सरकार में गोली खिलाई जा रही है।

रविवार को सहारनपुर के बेहट क्षेत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सबसे पहले सिद्ध पीठ मां शाकंभरी देवी के दर्शन करके पूजा-अर्चना की। इसके बाद बेहट में आयोजित जनसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कांग्रेस, सपा और बसपा को अपने निशाने पर रखा। पांच साल के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने बेहतरीन कार्य किया है। प्रदेश में सुरक्षा का माहौल बनाया गया है। गुंडे-माफिया पर लगाम कसी गई है। अपराधी उत्तर प्रदेश से पलायन कर गए हैं। दो पहले लगने वाले गुंडा टैक्स को भाजपा ने खत्म कर दिया है। किसानों को बकाया गन्ना भुगतान किया जा रहा है।

यूपी के सीएम ने अपने सियासी हमले को जोरदार बनाने के लिए एकबार फिर से आलू का मुद्दा उछालने की कोशिश की है। राहुल के बारे में योगी बोले कि “उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आएगी तो डेढ़ फीट का आलू उगवा देगी। जैसे आम का फल आता है,उन्हें लगता है आलू का भी आता होगा।” यही नहीं, उन्होंने राहुल गांधी पर “नामदारों के कुलदीपक” जैसा तंज भी कसा है। गौरतलब है कि 2017 के गुजरात चुनाव के दौरान राहुल गांधी ने आलू को लेकर एक टिप्पणी की थी, जो काफी विवादित हुआ था। राहुल ने कहा था कि अगर सत्ता मिलेगी तो वे ऐसी मशीन लगाएं जिसमें ‘यदि आलू डाला जाएगा,तो उसमें से सोना निकलेगा।’ हालांकि, उनकी पूरी बात सुनने से पता चलता था कि वे वास्तव में नरेंद्र मोदी के वादों के बारे में ऐसा कहना चाह रहे थे।

ऐसे में जब राहुल मौजूदा चुनाव में भी बीजेपी पर यूपी के गन्ना किसानों की अनदेखी का आरोप लगा रहे हैं, तो सीएम ने वही पुराने आलू वाले हथियार से राहुल पर प्रहार करना शुरू कर दिया है। दरअसल, पश्चिमी यूपी की सहारनपुर लोकसभा सीट राजनीतिक तौर पर बहुत ही संवेदनशील मानी जाती है। यही कारण है कि 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने मां शाकुम्भरी देवी का आशीर्वाद लेकर यहीं से पार्टी के प्रचार अभियान की शुरुआत की थी।

2014 में इस सीट पर बीजेपी के राघव रतनपाल कांग्रेस के इमरान मसूद से लगभग 60 हजार वोटों से जीते थे। बीजेपी ने इसबार भी उन्हें टिकट दिया है, जहां उनका मुकाबला महागठबंधन के उम्मीदवार से होना तय लग रहा है। इस सीट की अहमियत का अंदाजा इस बात से भी लगाई जा सकती है कि बीएसपी सुप्रीमो मायावती, एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव और आरएलडी सुप्रीमो अजीत सिंह भी 7 अप्रैल को यहां के देवबंद में ही महागठबंधन की पहली रैली करने जा रहे हैं।

Back to top button