संसद में सीट बदले जाने पर भड़के संजय राउत, वेंकैया नायडू को चिट्ठी लिखकर की ये शिकायत

0
58

महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना के बीच पनपी दरार अब केंद्र की राजनीति तक पहुंच गई है. बुधवार को शिवसेना सांसद संजय राउत जब राज्यसभा पहुंचे तो अपनी जगह बदले जाने पर वे नाराज हो गए. उन्होंने आश्चर्य प्रकट करते हुए राज्यसभा के चेयरमैन एम वेंकैया नायडू को पत्र लिखकर कहा कि यह फैसला जानबूझकर शिवसेना की भावनाओं को ठेस पहुंचाने और पार्टी की आवाज दबाने के लिए किया गया है.

संजय राउत ने पत्र में लिखा कि मैं जानकर हैरान हूं कि राज्यसभा में मेरी सीट बदलकर तीसरी से पांचवीं कतार में कर दी गई है. मैं इस गैरजरूरी कदम के कारण को समझ नहीं पा रहा हूं, क्योंकि एनडीए से अलग होने को लेकर कोई भी औपचारिक घोषणा नहीं की गई थी. इस फैसले ने सदन की गरिमा को प्रभावित किया है. मैं गुजारिश करता हूं कि हमें पहली, दूसरी या तीसरी पंक्ति की सीट दी जाए और सदन की शिष्टता भी कायम रखी जाए.

दरअसल, महाराष्ट्र विधानसभा का चुनाव साथ-साथ लड़ने के बाद शिवसेना ने मुख्यमंत्री पद के लिए 50-50 फॉर्मूले की मांग पर अड़ते हुए भाजपा से नाता तोड़ लिया है और एनसीपी-कांग्रेस के साथ सरकार बनाने की संभावनाएं तलाशने लगी. हालांकि, शिवसेना की इस जद्दोजहद में अब तक सफल नहीं हो पा रही है और कभी एनसीपी से तो कभी कांग्रेस की ओर से चौंकाने वाले बयान आ रहे हैं.

बुधवार को भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने महाराष्ट्र में शिवसेना और एनसीपी के साथ सरकार बनाने के सवाल पर ‘नो कॉमेंट्स’ कहकर संशय बरकरार रखा. बुधवार को ही एनसीपी चीफ शरद पवार भी संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले. इस सब के ​बीच संजय राउत ने दावा किया है कि गुरुवार दोपहर तक शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन के बीच आखिरी सहमति का ऐलान हो जाएगा.