महिला बोली कि स्कूल संचालक ने लूटी अस्मत, लेकिन चंद मिनटों में उसी पर रेप केस हुआ दर्ज

0
70

ग्वालियर। स्कूल संचालक और उसके साथी पर दुष्कर्म की एफआइआर दर्ज करा रही पीडि़ता, कार्रवाई के आधे घंटे बाद खुद भी रेप में मददगार की आरोपी बन गई। जिस स्कूल संचालक पर रेप का आरोप लगा रही थी, उसकी पत्नी भी थाने पहुंच गई। पुलिस से कहा पीडि़ता बनकर फरियाद सुनाने वाली ने दो लोगों के साथ उसका दिनदहाड़े अपहरण किया और सूनसान में ले जाकर महिला निगरानी करती रही और उसके दोनों साथियों ने उनके साथ गैंगरेप किया। दोनों पीडि़ताओं की दलीलें सुनकर पुलिस उलझन में आ गई। फिर दोनों की शिकायत पर एफआइआर दर्ज की।

इस तरह सामने आए केस

मालनपुर निवासी महिला मंगलवार शाम को महाराजपुरा थाने आई। पुलिस से बोली उसका इकलौता बेटा बरेठा,महाराजपुरा में स्कूल में पढ़ता और वहीं रहता था। करीब एक साल पहले स्कूल के बाहर खेल रहा था। गेंद पानी से लबालब गडढे में चली गई। उसे उठाने गया तो गडढे डूब गया। उसका सामान और कपडे तब से स्कूल में ही रखे थे। उसे उठाने मंगलवार को स्कूल आईं थी। स्कूल संचालक उनका साथी राजू और अन्य व्यक्ति बाहर बैठे थे। उनसे कहा कि बेटे का सामान चाहिए। स्कूल संचालक ने कहा अंदर कमरे में रखा है। जाकर उठा लो। सामान ले गईं तो तीनों आ गए। उन्हें दबोच कर गैंगरेप किया। पीडि़ता की शिकायत पर पुलिस ने स्कूल संचालक, राजू और अन्य के खिलाफ दुष्कर्म का केस दर्ज किया।

आधे घंटे बाद पीडि़ता बनी आरोपी
मालनपुर निवासी महिला थाने में दुष्कर्म की शिकायत बता रही थी तब स्कूल संचालक की पत्नी भी थाने आ गईं। उनका कहना था कि वह रोज घर के पास मंदिर जाती हैं। मंगलवार को पूजा करने गईं थीं तो महिला के साथ विश्वनाथ गुर्जर और उसका साथी आए। तीनों उन्हें मंदिर से घसीट कर बाहर ले आए।

विश्वनाथ गुर्जर की लक्जरी कार में पटक कर घर के पीछे सूनसान इलाके में ले गए। वहां महिला निगरानी करती रही, विश्वनाथ और उसके साथी ने उनके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। पीडि़ता ने आकर दुष्कर्म की शिकायत की तो पुलिस उलझन में आ गई। फिर पीडि़ता की शिकायत पर महिला उसके साथी विश्वनाथ गुर्जर और एक अन्य पर रेप केस दर्ज किया।