क्राइम

मेट्रीमोनियल साइट के जरिए लड़की से बात कर जीता विश्वास, फिर शादी का झांसा देकर… 

मेट्रीमोनियल साइट के जरिए युवतियों ऐसे को देता था शादी का झांसा और करता था लाखों की ठगी

मैट्रिमोनियल साइट पर युवती से दोस्ती कर खुद को डॉक्टर बताने वाले ठग ने उसके साथ इमोशनल अत्याचार किया. पहले शादी का झांसा दिया और फिर महंगे गिफ्ट के नाम पर एकाउंट में पैसा मंगवाया. दो बार एकाउंट में पैसा जमा करने के लिए युवती को शक हुआ. एक दोस्त की मदद से जब छानबीन की तो पता चला कि उसके साथ ठगी हुई. युवती ने लंदन में तथाकथित डॉक्टर के खिलाफ केस दर्ज कराया है. साइबर सेल और गाजीपुर पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही हैं.

गाजीपुर के शक्ति नगर में रहने वाले ओपी सिंह की बेटी नीरजा (34) (काल्पनिक नाम) ने शादी के लिए मैट्रिोमोनियल साइट जीवन साथी डॉट काम में रजिस्ट्रेशन कराया था. नीरजा का कहना है कि मई माह में उसके पास एक रिक्वेस्ट आई. रिक्वेस्ट करने वाले का नाम अमित राजकुमार था और उसने खुद को मूलरुप से महाराष्ट्र के नागपुर का रहने वाला बताया. वर्तमान में वह लंदन में डेंटल सर्जन के पद पर काम कर रहा है. प्रोफाइल ठीक होने के चलते नीरजा ने रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली.।

नीरजा ने बताया कि अमित ने उससे कई दिनों तक चैटिंग की. दोनों ने एक दूसरे के मोबाइल नंबर भी एक्सचेंज किए और दोनों के बीच बात भी होती रही. कुछ दिन बाद अमित ने नीरजा से कहा कि शादी का प्रस्ताव दोनों को मंजूर है और अपने-अपने परिवार से बात कर ले।नीरजा का कहना है कि कुछ दिन बाद अमित ने उसे कॉल कर एक महंगा गिफ्ट देने की बात कहीं. शादी से पहले महंगा गिफ्ट लेने से नीरजा ने इंकार किया लेकिन अमित ने इमोशनल कर गिफ्ट लेने का बात कहकर उसने अपने जाल में फंसा लिया. दो दिन बाद एक युवती को फोन आया तो कॉल करने वाली युवती ने बताया कि वह कस्टम डिपाटज़्मेंट से बोल रही है.

दिल्ली एयरपोटज़् पर आप को एक गिफ्ट आया है उसे रिसीव कर ले. दिल्ली से कॉल करने वाली युवती ने कहा कि गिफ्ट रिसीव करने के लिए उसे कस्टम ड्यूटी देनी होगी. इसके लिए एक एकाउंट नंबर दिया और उसमें 34 हजार 5 सौ रुपये जमा करने के लिए कहा. कंफर्म करने के लिए नीरजा ने अमित को कॉल किया तो अमित ने उससे पैसा देने की बात समझाते हुए कहा कि इंडिया आने पर मैं मैनेज कर दूंगा. अमित के कहने पर नीरजा ने एकाउंट में पैसा डाल दिए।

खुद को एयरपोर्ट पर फंसा होने का दिया झांसा

एकाउंट में पैसा डालने के बाद भी गिफ्ट नीरजा के पास नहीं पहुंचा. उसने ऑन लाइन गिफ्ट की डिटेल मांगी तो बताया कि गिफ्ट 11 केजी का है लेकिन पैक होने के चलते गिफ्ट में क्या है इसकी कोई जानकारी नहीं मिली. इस बीच अमित ने उससे इंडिया आने की बात कहीं. ठीक दो दिन बाद अमित ने उसे दोबारा कॉल किया और

बताया कि वह इंडिया आ चुका है लेकिन एयरपोर्ट में फंसा है. वह उसके पास डॉलर है जिसे वह एक्सचेंज नहीं कर सका.। अपनी बातों के जाल में फंसा कर अमित ने इस बार एक एकाउंट में 17 हजार रुपये भेजने के लिए कहा. इस बार फि र नीरजा ने पैसा जमा कर दिया लेकिन इस बार उसे कुछ शक हुआ।

सभी नंबर मिले बंद 

नीरजा को शक होने पर उसने एक दोस्त से मदद मांगी. दोस्त की मदद से उसे दिल्ली एयरपोर्ट के कस्टम डिपार्टमेंट को कॉल किया तो जिस युवती का उसने पास कॉल आया था उस नाम से कोई लड़की वहां जॉब ही नहीं करती थी. यहीं नहीं जिस नंबर से कॉल आई वह भी स्विच ऑफ  था. नीरजा ने अमित को कॉल किया तो उसका नंबर भी तब से स्विच ऑफ  बता रहा। होने वाले लाइफ पार्टनर से मिले धोखे के बाद नीरजा ने इस मामले की शिकायत साइबर सेल में की और अमित व अन्य लोगों के खिलाफ  गाजीपुर थाने में एफ आईआर दर्ज कराई. पुलिस मामले की जांच पड़ताल कर रही है.

Back to top button