खुद को बताता विष्णु का अवतार, महिलाओं को बनाता शिकार, पाखंडी ने ऑनलाइन फिर पसारे पांव

0
78

वडोदरा. बगलामुखी मंदिर के पाखंडी गुरु के बारे में अब रोज नई-नई बातें सामने आने लगी हैं। महिलाओं से अपने पांव धुलवाने का वीडियो वायरल होने के बाद वह लापता हो गया है। अब पता चला है कि वह महिला भक्तों को खुद का परिचय विष्णु के अवतार के रूप में देता था। बहरहाल वह अंडरग्राउंड है, फिर भी वह सोशल मीडिया पर सक्रिय है। इससे पुलिस उसकी तलाश में लगी है।उसके खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी कर दिया गया है।

प्रशांत के पाखंड की कई युवतियां शिकार हुई है। इनमें से कुछ युवतियों ने बताया कि प्रशांत हमेशा आश्रम में युवतियों से ही घिरा रहता था। इसके लिए दयानंद सोसायटी में उसका घर हो या फिर बगलामुखी मंदिर, वह सदैव खूबसूरत युवतियों के बीच ही घिरा रहता। युवतियों ने यह महसूस किया है कि वह उसके करीब आकर सम्मोहित हो जाती थीं।

महिलाएं-युवतियां उसे विष्णु का अवतार मानकर उसकी आरती करती, उसे छप्पनभोग का प्रसाद देती। उसका प्रसाद खाने के लिए युवतियों में होड़ मचती थी। जब उसकी पूजा की जाती, तब एक-दो पुरुष ही होते, बाकी सभी महिलाएं-युवतियां ही होतीं थीं।

इसके अलावा विशेष तिथियों पर प्रशांत महिलाओं-युवतियों के साथ बोट पर सवारी करता। नदी के बीच पर जाकर वह उनसे अपने पैर धुलवाता। युवतियों उसके पैर धोकर उस पानी को पी जाती थीं।

कभी-कभी वह कृष्ण बन जाता। फिर महिला भक्तों को गोपी बनाकर उनके साथ रासलीला करता। जन्माष्टमी पर दही-हांडी जैसे उत्सव करता जिसमें वह कृष्ण बनकर लीलाएं करता।