क्राइम

दिल्ली में टीचर ने पत्नी और 3 बच्चों को गला रेत कर उतारा मौत के घाट, नोट लिखकर कबूला गुनाह

दिल्ली के महरौली थाना क्षेत्र के वार्ड-2 में एक व्यक्ति द्वारा तीन बच्चों और पत्नी की हत्या किए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। पुलिस आरोपित उपेंद्र शुक्ला (42) को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

रात डेढ़ बजे की घटना

पुलिस के अनुसार शुक्रवार रात करीब एक से डेढ़ बजे के बीच यह घटना हुई। आरोपित उपेन्द्र पेशे के शिक्षक है। बताया जाता है कि पिछले कुछ समय से वह डिप्रेशन में चल रहा था। जिस घर में यह घटना हुई, उसमें आरोपित की सास भी रहती है। सास ने बताया कि शनिवार सुबह जब उपेन्द्र के कमरे का दरवाजा नहीं खुला तो उसने पड़ोसियों से मदद मांगी। ऐसे में पड़ोसियों ने पहले पुलिस को सूचना दी।
murder-1_062219115933.jpg

चाकू से गोदकर की हत्या

सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और दरवाजा खोला तो देखा कि बड़ी लड़की उम्र 7 वर्ष, लड़के की उम्र 5 साल और सबसे छोटी लड़की की उम्र 2 महीने और पत्नी रिंकू शुक्ला खून से लथपथ पड़े थे। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस ने बताया कि चारों की चाकू से गोदकर हत्या की गई है।

परेशान हूं इसलिए मार दिया
पुलिस ने उपेंद्र को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान वह बार बार एक ही बात करता रहा कि वह लंबे समय से डिप्रेशन में है। जब उससे कत्ल का कारण पूछा गया तो उसने कोई सही जवाब नहीं दिया। बस वह बार बार एक ही बात कहता रहा कि वह काफी परेशान है। हालांकि पुलिस अन्य पहलुओं को ध्यान में रखकर भी मामले की जांच कर रही है।

शव के पास से उपेंद्र के लिखे दो नोट बरामद हुए हैं, जिसमें से एक हिंदी और एक अंग्रेजी में लिखा हुआ है। इन नोट्स में उपेंद्र ने लिखा कि ये सभी कत्ल मैंने किए हैं। मैं इसके लिए जिम्मेदार हूं। डीसीपी के मुताबिक उपेंद्र की पत्नी अर्चना डायबिटीज से पीड़ित थी और आर्थिक तंगी डिप्रेशन और कत्ल की वजह हो सकती है।

मासूम पर भी नहीं आया तरस
उपेंद्र के बच्चों में दो लड़की और एक लड़का था। इनमें से बच्ची की उम्र 7 साल, बेटे की 5 साल और एक मासूम बच्ची की उम्र तो सिर्फ 2 महीने ही थी। मासूमों की हत्या करते समय भी उसे 2 माह के अपनी बच्ची पर तरस नहीं आया।

 

Back to top button