देश

‘मोदी जी दीजिए जवाब, क्या ये है आपका रामराज्य ?’

बहुचर्चित मीटू केस में नाना पाटेकर को मुंबई पुलिस की ओर से क्लीन चिट दिए जाने से उन पर आरोप लगाने वाली एक्ट्रेस तनुश्री दत्ता काफी निराश हैं. तनुश्री ने पुलिस पर सबूतों को तोड़-मरोड़कर पेश करने का आरोप लगाया है. साथ ही उन्होंने मुंबई पुलिस और कानून व्यवस्था को भ्रष्ट बताया. तनुश्री दत्ता ने अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आरोपियों को सजा देने की मांग की है.

डीएनए की एक रिपोर्ट के मुताबिक तनुश्री ने अपने बयान में कहा, “मुंबई पुलिस झूठ बोल रही है कि CINTAA के साथ की गई मेरी शिकायत में मैंने सेक्सुअल हरासमेंट की बात का जिक्र नहीं किया था. उन्हें 2008 में मेरी सिंटा को दिए गए शिकायत पत्र की कॉपी दी गई थी जिसमें साफ तौर पर सेक्सुअल हरासमेंट की बात का जिक्र किया गया था. इस शिकायत पत्र को 2018 की मेरी FIR से जोड़ा गया था.”

नाना पाटेकर को क्लीन चिट मिल जाने के बाद तनुश्री दत्ता ने कहा कि वह ना तो इस फैसले से चकित हैं और ना ही उन्हें आश्चर्य हो रहा है. हालांकि उन्हें बहुत निराशा थी जिसे वह अपने भीतर छिपा कर नहीं रख सकीं. तनुश्री ने भारत के पुलिस अधिकारियों को भ्रष्टाचार में लिप्त और भारतीय न्याय व्यवस्था और कानून को बिकाऊ करार दिया.

अपने बयान में तनुश्री ने लिखा, “मोदी जी, क्या हुआ आपके भ्रष्ट मुक्त भारत का? देश की एक बेटी सीरियल अपराधी द्वारा शोषण का शिकार हुई है, पब्लिक में भीड़ से अटैक हुआ, बार-बार न्याय से वंचित किया जाता है और उसका नाम बदनाम किया जाता है, धमकी दी गई, दवाब बनाया गया, उसका करियर खराब कर दिया और गुमनामी का जीवन जीने के लिए देश से बाहर जाना पड़ा और आपकी पुलिस कहती है कि उसकी शिकायत झूठी और विद्वेषपूर्ण है.”

इसके आगे तनुश्री ने लिखा, “ये है आपका राम राज्य? एक हिंदू परिवार में जन्म होने के कारण मैंने तो सुना था कि राम नाम सत्य है तो फिर क्यों देश में असत्य और अधर्म की बार-बार विजय होती रही है? जवाब दीजिए मुझे…”

याद दिला दें कि तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर, गणेश आचार्य, समी सिद्दीकी और राकेश सारंग पर फिल्म हॉर्ट ओके प्लीज की शूटिंग के दौरान हरासमेंट करने का आरोप लगाया था. जांच के बाद पुलिस ने कोई साक्ष्य न मिलने की बात कहते हुए नाना पाटेकर व बाकी आरोपियों को क्लीन चिट दे दी.

Back to top button