स्वामी चक्रपाणी की सुनिए- कोरोना वायरस है भगवान का वो अवतार जो चीनियों को सजा देने आया !

0
105

कोरोनवायरस से 1,700 मौतों का आंकड़ा पार हो गया है। दुनिया भर के तमाम वैज्ञानिक और शोधकर्ता इस घातक प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए एक टीका खोजने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। दूसरी ओर भारत में हिंदू महासभा का मानना है कि यह जानलेवा वायरस, वायरस ही नहीं है बल्कि मांसाहारियों को दंडित करने के लिए एक क्रोधित भगवान का “अवतार” है।

अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणी ने कहा कोरोना गरीब जानवरों की सुरक्षा के लिए भगवान का अवतार है और “वे उन्हें खाने वाले व्यक्ति को मौत और सजा देने के लिए आए हैं।”

जी, स्वामी चक्रपाणि ने इस वायरस की तुलना भगवान नरसिंह के साथ की है, जिन्होंने चीनी राक्षस को मारने के लिए अवतार लिया है। ऐसा इसलिए क्योंकि चीनी “जानवरों को यातना दे रहे थे और उन्हें खा रहे थे इसलिए उन्हें वापिस शाकाहारी बनाने” के लिए “एक सबक” सिखाने हेतु भगवान करोना वायरस ने अवतार लिया है।

स्वामी ने कहा कि चीनी प्रधानमन्त्री शी जिनपिंग को “कोरोना की मूर्ति बनाकर और क्षमा मांगना चाहिए”। उन्होंने सलाह दी कि सभी चीनी लोगों को “भविष्य में किसी भी निर्दोष प्राणियों को नुकसान नहीं पहुंचाने की प्रतिज्ञा लेनी चाहिए, फिर कोरोना भगवान का क्रोध कम हो जाएगा।

आपको बता दे हिंदू महासभा अध्यक्ष द्वारा यह बयान सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर उनका जमकर मजाक उड़ रहा है।