ख़बरराजनीति

अफसोस ! इस बार अपनी मौत को झूठा नहीं बता सकतीं देश की ‘सुपर मॉम’

स्वर्गीय सुषमा स्वराज 25 साल की उम्र में सांसद बनीं. हरियाणा की सबसे युवा सांसद. बीजेपी की पहली महिला प्रवक्ता रहीं. दिल्ली की पहली महिला सीएम रहीं. देश की सबसे युवा कैबिनेट मंत्री बनीं. देश की पहली फुल टाइम महिला विदेश मंत्री रहीं. बहरहाल, ये तो बीती बाते हैं. अब सुषमा नहीं हैं, वो नेता नहीं है जो ट्विटर के जरिए आम लोगों से लगातार जुड़ी रही.

पूर्व विदेश मंत्री हाजिर-जवाबी में काफी माहिर थीं. इसका एक उदाहरण हाल ही में तब देखने को मिला जब उन्होंने ट्विटर पर एक ट्रोलर को ऐसा जवाब दिया था कि उसकी बोलती बंद हो गई. उस ट्रोलर ने सुषमा को फिर पलटकर जवाब नहीं दिया.

दरअसल, बात जुलाई महीने की है, जब दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन हुआ था. शीला दीक्षित के निधन पर संवेदनाएं व्यक्त की जा रही थीं. ऐसे में पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी एक ट्वीट किया. जिसमें सुषमा स्वराज ने लिखा, ‘शीला दीक्षित के निधन के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ. हम राजनीति में विरोधी जरूर थे लेकिन निजी जिंदगी में बहुत अच्छे दोस्त थे. वह अच्छी इंसान थीं.’

सुषमा के ट्वीट पर एक ट्रोलर ने रीट्वीट करते हुए लिखा, ‘आपकी भी बहुत याद आएगी एक दिन शीला दीक्षित की तरह अम्मा.’ ट्रोलर के इस ट्वीट पर सुषमा ने उसे ऐसा जवाब दिया कि वो पलटकर कुछ न कह सका. सुषमा स्वराज ने जवाब में लिखा था, ‘इस भावना के लिए आपको मेरा अग्रिम धन्यवाद.’

बता दें कि पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया पर कई बार उनके निधन की खबरें सोशल मीडिया पर उड़ी थीं. जिसका उन्होंने हर बार ट्वीट के जरिए अपनी शानदार हाजिर जवाबी से खंडन किया.

मंगलवार रात जब उनके निधन की खबरें सोशल मीडिया पर सामने आईं तो लोग ये उम्मीद लगाने लगे कि शायद सुषमा स्वराज हर बार की तरह आएंगी और इस खबर का खंडन करेंगी, लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ.

 

Back to top button