ख़बरराजनीति

जब ट्रोलर ने खराब ‘फ्रिज’ के लिए मांगी मदद, सुषमा स्वराज ने ऐसे की थी बोलती बंद

सुषमा स्वराज चली गईं, उनके साथ ही वो भरोसा भी चला गया जो लोगों को होता था. ट्विटर पर ट्वीट कर देने और मदद होने का भरोसा. ये भरोसा तो उनके चुनाव न लड़ने की घोषणा के बाद ही चला गया था. पर सुषमा स्वराज के जाने के बाद मानो सपना टूटा हो. नेता चले जाते हैं. उनके जवाब और हाजिरजवाबी पीछे रह जाती है. इस मामले में सुषमा जी बहुत धनी हैं.

यूं तो ट्विटर पर उनसे जुड़े कई किस्से हैं, लेकिन एक जरा हटके था. दरअसल मोदी सरकार की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज उस वक्त अजीब उलझन में फंस गई थीं, जब ट्विटर पर उनसे एक यूज़र ने अपने ख़राब फ्रिज को लेकर मदद मांगी. हुआ यूं था कि वेंकट नाम के व्यक्ति ने ट्विटर पर सुषमा स्वराज और रामविलास पासवान को ट्वीट करते हुए अपने ख़राब फ्रिज़ के बारे में मदद मांगी थी.

उन्होंने दोनों केंद्रीय मंत्रियों को ट्वीट कर बताया कि एक कंपनी ने उन्हें ख़राब फ्रिज बेच दिया है. वह कंपनी इसे बदलने को तैयार नहीं बल्कि मरम्मत के लिए जोर दे रही है.

तब सुषमा स्वराज ने भी बड़ी ही विनम्रता के साथ ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, ‘भाई मैं रेफ़्रिजरेटर से जुड़े मामले में आपकी मदद नहीं कर सकती. मैं संकटग्रस्त लोगों की मदद करने में ही व्यस्त हूं.’ इसके बाद लोगों ने ट्विटर पर वेंकट का खूब मजाक उड़ाया और सुषमा की हाज़िर-जवाबी की जमकर तारीफ हुई.

सुषमा के नाम ट्विटर के ज़रिए लोगों की मदद करने वाले और मजाकिया ट्वीट्स की एक लंबी फेहरिस्त है. उन्होंने सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर को लोगोंं से सीधे जुड़ने और उनकी समस्याएं सुलझाने के लिए बेहतरीन माध्यम के रूप में इस्तेमाल किया. ऐसा करने वाली वह शायद दुनिया की पहली और एकमात्र नेता हैं, जिसने इतने बड़े पैमाने पर ट्विटर के जरिए लोगों की समस्याएं सुुलझाईं हैंं. बहरहाल, ये तो बीती बाते हैं. अब सुषमा नहीं हैं, वो नेता नहीं है जो ट्विटर के जरिए आम लोगों से लगातार जुड़ी रही.

Back to top button