Top News
प्रेग्नेंसी में सुपरफूड की तरह काम करता है ये फल,…महंगे खाद्य तेल से अडाणी-रामदेव को होगा फायदा, जानिए पूरा…मेनिफेस्टो से पहले आम आदमी पार्टी का गारंटी कार्ड,…‘मैदान’ मार लीं प्रियामणि, ले ली कीर्ति की जगह, अजय…राजस्थान में सूर्यग्रहण देखने से बच्चों की आंखें हुई खराब,…हिंदू-मुसलमान का लेस्बियन इश्क, एकता कपूर की वेब सीरीज़, गरमागरम…दीपिका-विद्या ने ठुकराई ये बायोपिक, अब ऐश करेंगी ये बंगाली…पुराना सूटकेस खरीदे बुजुर्ग और उसमें निकले 30 लाख, लेकिन…Bigg Boss 13: काम्या का आसिम पर निशाना, कहा- तुम्हारी…शादी का झांसा देकर बहला ली नाबालिग, फिर दोनों ने…बिग बॉस : सिद्धार्थ-पारस पर दिल न्योछावर कर चुकी हैं…पढ़ाई के दौरान दोनों मिले, लड़की ने बनाया शादीशुदा छात्र…‘मैं हार्दिक पांड्या के साथ सोना चाहती हूं, क्योंकि वो…प्रेमी जोड़े सरेआम कर रहे थे अश्लील हरकतें, जब पकड़े…एक बार जरूर होकर आएं शाहीन बाग, देखने को मिलेगा…तलाक-तलाक-तलाक बोल शौहर हुआ सऊदी फरार, अब देवर बोल रहा…महिला लेखक ने कोहली-अनुष्का के लिए बोली ऐसी बात, फैंस…‘द ग्रेट खली’ हैं CAA के फेवर में, बोले- विदेशों…फेसबुक पर योगी की लगा दी ऐसी तस्वीर, जेल पहुंच…75 साल के एक्टर ने 26 साल छोटी अभिनेत्री को…कांग्रेस ने यूपी में बसपा को दिया जो झटका, वो…चमत्कारः इस मंदिर में विराजमान हैं जो हनुमान, वो लेते…ओपी सिंह को सेवा-विस्तार नहीं देंगे योगी, जानिए कौन हो…कोहली के लिए काल बना ये गेंदबाज, ट्विटर पर उड़वा…नौकरी : BCCI ने मंगाए नेशनल सिलेक्टर के लिए आवेदन,…छोड़े नहीं छूट कगी सिगरेट तो ना लें टेंशन, करें…मगरमच्छों पर भी पाकिस्तानियों को नहीं आया रहम, Zoo में…शाहीन बाग़ की महिलाओं पर लगे आरोप पर बोले रवीश- महज़…7 साल में तीसरा चुनाव लड़ रहे केजरीवाल, इस बार…कानपुर में खौफनाक वारदात, जमानत पर आए बाहर और महिला…लेखपाल बाप ने सगी बेटी से किया पाप, दोस्तों को…छपाक : JNU कांड के बाद दीपिका का TikTok कांड,…घर में कभी न लगाएं माता लक्ष्मी की ऐसी तस्वीर,…CAA : BJP चीफ के बिगड़े बोल, विरोध करने वालों…प्लेइंग 11 में रोहित और धवन होंगे या नहीं, थोड़ी…8 साल बाद नया पैर पाया बाघ, लेकिन पसंद न…3 दिन में विक्स वेपोरब से घटाएं पेट की चर्बी,…जब-जब आता चुनाव, अपना नाम बदल लेतीं AAP की ये…‘ठाकरे’ के राउत को खरी-खरी सुनाए ‘गांधी’ के राउत, कहा-…महादेव और देवी पार्वती से छीनकर बद्रीनाथ को अपना धाम…POCO अब नहीं है Xiaomi का हिस्सा, देगा सीधी चुनौती,…आप भी एड्स के मरीज तो नहीं, डॉक्टर को दिखाए…19 जनवरी राशिफल: रविवार के दिन इन राशियों को मिलेगा…#कम्बल_चोर_यूपी_पुलिस : इस ट्रेंड की वजह जानने को देखें लखनऊ…कांग्रेस ने 54 और बसपा ने 42 सीटों पर उम्मीदवारों…यूपी : हैवानियत के बाद युवती की हत्या, पहचान छ‍िपाने…इस विभाग में निकली इंजीनियर पदों पर बंपर भर्तियां, जल्द…अलर्ट ! जिस घरो में मौजूद होते है ये 5…आपके हाथ की सबसे छोटी ऊँगली में छुपे है आपके…परीक्षा में फेल होने के अंदाजे से भयभीत हुई छात्रा,…

कोई राज्य सरकार नहीं कर सकती नागरिकता कानून को इनकार, जानिए क्या कहता है संविधान

नागरिकता कानून का संसद में विरोध करने के बाद अब कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और वाम की राज्य सरकारें अपने अपने राज्यों में इसे लागू करने से भले ही मना कर रही हो, लेकिन यह केवल राजनीतिक बयान भर है। सच्चाई यह है कि ऐसा कोई भी राज्य जिसे कानून में ही इससे छूट नहीं है वह इस कानून को लागू होने से नहीं रोक सकता है।

नागरिकता देने का अधिकार पूरी तरह केंद्र सरकार के अधीन है। राज्य सरकारों पर किसी भी नागरिक को उसकी पूरी सुविधा देने का कर्तव्य है और चुनाव आयोग जरूरी दस्तावेजों के आधार पर तय करता है कि उसे मतदाता बनाया जाए या नहीं।

कई राज्यों ने लागू करने से किया है इन्कार

बुधवार को संसद में विधेयक पर जारी चर्चा के बीच ही पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से घोषणा की गई थी कि वह प्रदेश में इसे लागू नहीं होने देगी। उस वक्त संसद के अंदर ही गृहमंत्री अमित शाह ने स्पष्ट किया था कि यह सभी राज्यों में लागू होगा। गुरुवार को केरल और पंजाब सरकार की ओर से भी ऐसी ही घोषणा की गई। हालांकि उन्हें इसका अधिकार ही नहीं है, बल्कि संविधान उन्हें बाध्य करता है कि संसद के कानून का पालन करे।

हर हाल में करना होगा लागू

संविधान विशेषज्ञ व वरिष्ठ अधिवक्ता पीएस नरसिम्हा ने कहा- ‘संविधान के अनुसार तो हर राज्यों को संसद के कानून का पालन करना ही होगा। नागरिकता देने का अधिकार केंद्र के अधीन है। कोई राज्य इसे रोक नहीं सकता है।’ अगर केंद्र किसी को नागरिकता देता है तो उसे नागरिक अधिकारों से वंचित रखना भी राज्य सरकारों के बस की बात नहीं है क्योंकि संविधान की धारा के अधीन उसे उसे सारे अधिकार मिलेंगे वरना कोर्ट का दरवाजा खुला है। ऐसे में कांग्रेस और तृणमूल शासित राज्यों के बयान को राजनीतिक तौर पर ही लिया जा रहा है।

राज्य सरकारें नहीं कर सकती अवहेलना

ध्यान रहे कि राज्य सरकारों और खासकर पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से केंद्र की कुछ योजनाओं को लागू किए जाने से मना कर दिया गया था, लेकिन कानून योजना से अलग है और राज्य सरकारें उसकी अवहेलना नहीं कर सकती है।

Share this post

scroll to top