उत्तर प्रदेशख़बर

अमित शाह ने पूछा था- कैसे हो नागर?..और एक दिन बाद नागर उनके ही हो गए

समाजवादी पार्टी में इस्तीफों का दौर जारी है. नीरज शेखर के बाद अब सांसद सुरेंद्र सिंह नागर ने राज्यसभा सांसद के पद से इस्तीफा दे दिया है. नागर ने हालांकि अभी कोई पार्टी ज्वाइन करने की बात नहीं कही है लेकिन चर्चा है कि है कि वह जल्द ही बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

नागर की गिनती पश्चिम उत्तर प्रदेश में एक प्रभावशाली गुर्जर नेता के रूप में होती है. राज्यसभा में उत्तर प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर रहे सुरेंद्र नागर का कार्यकाल चार जुलाई 2022 तक था. वो सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बेहद करीबी माने जाते थे, उन्होंने एकाएक इस्तीफ़े का फैसला क्यों लिया और अपने कार्यकाल का 3 साल बचे होने के बावजूद भी इस्तीफ़ा क्यों दिया ? ये सवाल हर किसी के मन में है.

दरअसल सुरेन्द्र नागर पिछले कई दिनों से पार्टी के कामकाज के तरीके से नाख़ुश बताए जा रहे थे. वहीं राज्यसभा में सपा के एक वरिष्ठ नेता की पसंद और नापसंद के शिकार भी कई मुद्दों पर रहे हैं. इसी बीच बीजेपी के कई नेताओं ने सुरेन्द्र नागर से बातचीत करनी शुरू की. राजनीतिक जानकारों का दावा है कि सुरेन्द्र नागर के बीजेपी में जाने की पटकथा नीरज शेखर के साथ ही लिखी जा चुकी थी. इसीलिए सुरेन्द्र नागर ट्रिपल तलाक और UAPA बिल में भी राज्यसभा में मौजूद नहीं रहे.

गुरूवार को संसद में सुरेन्द्र नागर की मुलाकात बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से हुई. हालाँकि यह एक बेहद अनौपचारिक मुलाकात थी. संसद की गैलरी से अमित शाह निकल रहे थे और सुरेन्द्र नागर ने गृह मंत्री अमित शाह को नमस्कार किया. इस पर अमित शाह ने पूछा कि और कैसे हो नागर ? इसी बातचीत के बाद से बीजेपी के कई वरिष्ठ नेता सुरेन्द्र नागर से संपर्क करने लगे और शुक्रवार को सुरेन्द्र नागर ने इस्तीफ़ा दे दिया.

अब चर्चा है कि नागर बीजेपी में शामिल होंगे और बचे हुए कार्यकाल में बीजेपी सुरेन्द्र नागर को राज्यसभा भेजेगी.

Back to top button