क्राइम

बहन ने किया प्यार का गुनाह, भाई ने दे दी सबसे बड़ी सजा

Image result for युवक की धारदार हथियार से ताबड़तोड़ वार कर हुई

लखनऊ। राजधानी लखनऊ के निगोहा थाना क्षेत्र में दो दिन पहले युवक की धारदार हथियार से ताबड़तोड़ वार कर हुई सनसनीखेज हत्या का पुलिस ने खुलासा करते हुए दो अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक आरोपी अभी फरार है जिसकी तलाश में पुलिस उसके संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है। युवक की हत्या प्रेम प्रसंग के चलते मृतक की प्रेमिका के भाई ने अपने साथियों के साथ मिलकर की थी। सर्विलांस सेल की मदद से निगोहा पुलिस ने आरोपियों को पकड़कर सलाखों के पीछे भेज दिया। पुलिस ने अभियुक्तों के कब्जे से हत्या में प्रयुक्त आला कत्ल और खून से सने कपड़े भी बरामद कर लिए हैं।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक लखनऊ कलानिधि नैथानी ने पूरा घटनाक्रम पर जानकारी देते हुए बताया कि 24 जून को ग्राम शेरपुर लवल में यतीश तिवारी (24) की हत्या के बाद शव नग्न अवस्था में मिला था। इस संबंध में निगोहा थाना पर अज्ञात में हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। एसएसपी ने बताया कि जांच के दौरान व्यक्तियों द्वारा इस बात का पता लगा कि मृतक यतीश तिवारी का गांव के शिव शंकर पुत्र शिव प्रसाद रावत की बहन के साथ मिलना जुलना था। उसके साथ उसके प्रेम प्रसंग थे। इसी बात को लेकर वह एतराज करता था। इसी रंजिश के कारण उसी समय से शिवशंकर व शिव प्रसाद मृतक यतीश तिवारी को रास्ते से हटाने की योजना बनाने लगे।

एसएसपी ने बताया कि शिवप्रसाद अपने बच्चों को गांव से हटाकर वृंदावन कॉलोनी सेक्टर 6 लखनऊ में किराए के मकान में रहने लगा तथा बीच-बीच में रात्रि के समय मृतक की हत्या करने के उद्देश्य से गांव में आया जाया करता था। 23 जून की रात गांव शेरपुर लवल में तेरहवीं का कार्यक्रम था। अभियुक्त शिवप्रसाद गांव के ही हनुमान प्रसाद रावत के साथ वृंदावन कॉलोनी में कार्यक्रम में शामिल होने अपनी मोटरसाइकिल से गांव आया। जबकि अभियुक्त शिवशंकर रोड के साधन से गांव आया। इन तीनों लोगों ने योजनाबद्ध तरीके से मृतक की तलाश की और रात करीब 1:00 बजे जब तक अभियुक्तों के घर के पास बने नाला की पुलिया के पास बैठकर अपनी मोबाइल में पबजी गेम खेल रहा था। उसी दौरान योजनाबद्ध तरीके से अभियुक्तों ने शिव प्रसाद रावत व हनुमान रावत अगल बगल से आकर मृतक का हाथ पकड़ लिया और मुंह दबाकर उसे गिरा दिया।

एएसपी ग्रामीण विक्रांत वीर ने बताया कि अभियुक्त शिवशंकर पीछे से अपने हाथ में चापड़ लेकर लेकर आया और आते ही मृतक के सिर पर ताबड़तोड़ से प्रहार कर हत्या कर दी। इसके पास में स्थित अपने घर में जाकर चापड़ को बक्से के पीछे छिपा दिया। इतना ही नहीं उसने अपने रक्त रंजित कपड़े उतारकर वही कमरे में छिपा दिए और मौके से फरार हो गए।

एससपी क्राइम और विधानसभा सर्वेश कुमार मिश्रा ने बताया कि अभियुक्त शिव प्रसाद व हनुमान प्रसाद ने घटना का रूप बदलने के उद्देश्य से मृतक यतीश तिवारी के कपड़े उतार कर मृतक को नग्न अवस्था में करीब 10 कदम आगे तालाब की तरफ मृत अवस्था में छोड़कर फरार हो गया। अभियुक्त शिव हनुमान प्रसाद छिप-छिपकर अपने घर गांव शेरपुर लवल आए थे। जिन्हें मुखबिर की सूचना पर पकड़कर सघन पूछताछ की गई। पूछताछ में अभियुक्तों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उन्होंने बताया कि शिवप्रसाद फरार चल रहा है, जिसकी पुलिस तलाश कर रही है।

क्षेत्राधिकारी मोहनलालगंज राजकुमार शुक्ला ने बताया कि इस सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा करने में थानाध्यक्ष निगोहा जगदीश पांडेय की अहम भूमिका रही। उन्होंने इस घटना का 48 घंटे के भीतर सफल अनावरण किया। उनकी टीम में एसएसआई रामफल मिश्रा, एसआई नदीम अहमद सिद्दीकी, एसआई शिवाकांत मिश्रा, हेड कांस्टेबल राजेश पटेल, राम बहादुर ओझा, योगेश चंद्र गुप्ता, जगसेन सोनकर, कांस्टेबल रजनेश कुमार और चालक अवधेश कुमार शामिल रहे। वहीं सर्विलांस सेल की टीम से उप निरीक्षक राजीव यादव, हेड कांस्टेबल सत्येंद्र तिवारी और कॉन्स्टेबल मयंक कुमार की इस हत्याकांड के खुलासे अहम भूमिका रही।

Back to top button