शेरीन मामला: पिता ने ही 3साल की बच्ची की हत्या, मिली ये सजा

भारत से गोद ली गई तीन वर्षीय बच्ची की हत्या के मामले में उसके पिता के खिलाफ हत्या करने और साक्ष्यों से छेड़छाड़ करने का आरोप साबित हुए हैं. वेस्ले मोन मैथ्यूज पर एक बच्ची को चोट पहुंचाने का आरोप पहले से ही था. मैथ्यू को डलास की एक कोर्ट में दोषी ठहराया गया है.यह जुर्म साबित होने पर उसे दो से 20 साल तक की सजा हो सकती है और 10,000 अमेरिकी डॉलर का जुर्माना भी लग सकता है.

पिता ने की बेटी की हत्या

आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसने अपनी बेटी को जानबूझ कर नहीं मारा. उसने अपनी बेटी को रात में एक पेड़ के पास खड़े होने को कहा था और ये उसकी सजा थी. इसके कुछ देर बाद शेरीन गायब हो गई. पुलिस के ढूंढने पर भी शेरीन कहीं नहीं मिली और जब पुलिस ने आरोपी के घर की छानबीन की तो शेरीन का शव एक नाले के पास से मिला. इसके बाद ऑटोप्सी कराई गई जिसमे यह पता लगा की बच्ची को एक घातक हथियार से मारा गया है.

मैथ्यू से पूछताछ की गई

Advertisement

दोबारा जब मैथ्यू से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि उसने घर की गैराज में बच्ची को जबरन दूध पिलाने की कोशिश की थी. मैथ्यू के मुताबिक बच्ची को हर बार नींद से जागने पर कुछ न कुछ खाने को देना होता था और इसी वजह से उसका वजन बढ़ रहा था. उसने बताया कि वह शेरीन को जबरदस्ती दूध पीला रहा था और इसकी वजह से उसके गले में दूध के अटकने से उसे खांसी आने लगी. इसके बाद जब उसने चेक किया तो पता लगा कि बच्ची कि दिल कि धड़कन रूक गई और उसकी मौत हो गई. इसके बाद उसने शेरीन के शव को बहार नाले के पास फेंक दिया.

advt

 

शेरीन मामले में विदेशमंत्री ने किया था ट्वीट

तीन साल की बच्ची की मौत के बाद लोगों में काफी गुस्सा देखने को मिल रहा है. बच्ची की मौत के बाद विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट करके कहा था, ‘मैंने महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी से आग्रह किया है कि शेरिन मैथ्यूज के गोद लेने की प्रक्रिया की गहन जांच की जाए, जिसकी हत्या उसके गोद लेने वाले पिता वेस्ले मोन मैथ्यूज ने अमेरिका में कर दी थी.’