धर्म

जिस शादीशुदा महिला ने किया ये काम, उसका पति शर्तिया होगा बर्बाद

व्यक्ति के अंदर बहुत सी अच्छी और बुरी बातें होती हैं और उन्हें हर इंसान अच्छे तरीके से अपने अंदर लेना चाहता है लेकिन बहुत सी ऐसी चीजें हो जाती हैं जिसके बाद लोग अनजाने में करते हैं फिर भुगतते हैं. इंसान को नहीं पता होता कि वो क्या अच्छा कर रहा है क्या नहीं, बस जो शिक्षा उसे दी जाती है उन्हें के अनुसार वो चीजों को ढालने की कोशिश करने लगता है. शादीशुदा महिला और पुरुष के लिए कई सारे नियम बनाए गए हैं जिनकी व्याख्यान शास्त्रों में किए गए हैं और इऩ्हें हर किसी को अपने जीवन में उतारना चाहिए. मगर शास्त्रों के मुताबिक शादीशुदा महिलाएं भूलकर भी नही करें ये काम, इन बातों को ध्य़ान में रखकर ही हर महिला को एक कदम आगे बढ़ाना चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि शास्त्रों में लिखी बातें गलत नहीं होती हैं.

शास्त्रों के मुताबिक शादीशुदा महिलाएं भूलकर भी नही करें ये काम

शास्त्रों और ज्योतिष में बहुत सारे महत्वपूर्ण प्रभाव हमारे जीवन में घटित होते हैं और इनसे बचने के सुझाव उसी में लिखे होते हैं. आज हम आपको उन्हीं बातों के बारे में बताएंगे जो शादीशुदा महिलाओं को कभी नहीं करना चाहिए.

1. महिलाओं के अंदर दो खास स्वभाव होते हैं एक ज्यादा बात करना और दूसका ज्यादा भावुक हो जाना. कई बार इस भावावेश में आकर शादीशुदा महिलाएं कई छोटे-छोटे घरेलू मामले शुरु कर देती हैं और कभी-कभी यही मामला इतना बड़ा हो जाता है कि कोई भी इसे सुलझा नहीं पाता. ऐसे में वो खुद के लिए मुश्किल खड़ा कर लेती हैं.

2. ऐसा कहा जाता है कि महिलाओं के पेट में कोई बात नहीं पचती इसलिए वो हर बात किसी ना किसी से कह ही देती हैं. मगर ऐसा करना गलत होता है क्योंकि नारी घर का एक अहम हिस्सा होती है और घर की छोटी-छोटी बातें अगर हर किसी से कहने लगे तो सबकुछ बिगड़ जाता है इसलिए अच्छा यही है कि महिलाओं को अपने घर का भेद अपने तक ही रखना चाहिए.

3. शास्त्रों के अनुसार किसी भी शादीशुदा महिला को अपने पति से दूर नहीं रहना चाहिए. ऐसा करने से या जीवनसाथी को ना समझने वाली महिलाओं को समाज में कई प्रकार की मानसिक परेशानियां आने लगती हैं और पति के साथ रहने पर कोई भी महिला ज्यादा शक्तिशाली बन जाती है.

4. शादीशुदा महिलाओं को इस बात का खास ध्यान देना चाहिए कि वह किसी भी बुरे चरित्र वाले व्यक्ति के साथ ना फंस जाए. गलत चरित्र के लोगों की संगत भी बुरी ही होती है और ऐसे में कोई भी संकट पैदा हो सकता है. वैसे लोग दूसरों को नुकसान पहुंचाने में विश्वास रखते हैं और ऐसे में आपके घर का वातावरण भी दूषित हो सकता है.

5. घरेलू और सामाजिक मौंको पर कभी-कभी महिलाओं को अपनों की बहुत सी बातें बुरी लग जाती हैं. ऐसे में महिलाओं को अपने ऊपर काबू रखना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा बात को दबाने की कोशिश करनी चाहिए. वरना परिस्थितियां विपरित भी हो सकती हैं और ऐसा होने पर समस्या उत्पन्न हो सकती है. इस बात का खास ध्यान रखें कि शुभचिंतको की उपेक्षा करते हुए पराए लोगों से दूरियां बनाकर रखें.

Back to top button