सिडनी में ‘जूनियर’ तेंदुलकर का धमाल, इन्हें बताया रोल मॉडल

क्रिकेट अनिश्चिकताओ का खेल है, इस खेल में कुछ भी संभव है. नामुमकिन चीज़ भी इस खेल में हो सकती है. युवराज सिंह के 6 छक्के ही ले लो, ऐसा करना बहुत मुश्किल है परंतु युवराज सिंह ने यह चमत्कार करके सबको दिखाया है.क्रिकेट के मैदान मे सब कुछ संभव है और साथ ही क्रिकेट की कोई उम्र नहीं होती. भारतीय महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर, जिन्हे मास्टर ब्लास्टर कहा जाता है. इन दिनों सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर दमदार प्रदर्शन दिखा रहे है.

ऑस्ट्रेलिया में ‘जूनियर’ तेंदुलकर का धमाल

हाल ही में 18 साल के अर्जुन ने आस्ट्रलिया में स्प्रिट ऑफ ग्लोबल चैलैंज में भाग लेते हुए सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर गेंद और बल्ले दोनों से शानदार प्रदर्शन किया है. टी20 मैच में भारत के क्रिकेटर्स क्लब की ओर से बतौर ओपनर खेलते हुए अर्जुन ने अपने धुंआधार प्रदर्शन से केवल 27 गेंदों पर 48 रन बना डाले. इतना ही नहीं अर्जुन ने गेंद से कमाल दिखाया जिसमें उसने चार विकेट झटक डाले.

Advertisement

अर्जुन ने कहा, ‘मुझे बचपन से ही तेज गेंदबाजी करना बहुत पसंद है. मिशेल स्टार्क और बेन स्टोक्स मेरे रोल मॉडल हैं. मैं कभी दबाव नहीं लेता हूं, जब गेंदबाजी करता हूं तो उसमें अपना सबकुछ अपना झोंक देता हूं और जब बल्लेबाजी करनी होती है, तो इस पर ध्यान देता हूं कि किस गेंद पर शॉट खेलना है और किसे छोड़ना है.’

advt