सेहत

ये पौधा आपको देगा इन बड़ी समस्याओं से छुटकारा, जानिए और भी कई फायदे

धतूरा जो कि भगवान शिव को बहुत प्रिय है, और यह कहीं पर भी आसानी से उग जाता है। इसकी पत्तियां, फूल, जड़, बीज और तना का बहुत फायदेमंद होते हैं। बतादें कि धतूरे की पत्तियों का इस्तेमाल हृदय से संबंधित रोगों को दूर करने में भी किया जाता है। अगर आप गंजेपन से परेशान हैं तो आप धतूरे के बीजों का तेल निकाल कर जिस स्थान पर आप के बाल नहीं आते हैं, वहां पर लगाइए। ऐसा करने से आपके सिर का गंजापन हट जाएगा। वहां पर नए बाल आ उगने लगेंगे। धतूरे का फल काफी फायदेमंद होता है। इसलिए आप इसके फल के रस को अगर अपने बालों पर लगाते है तो आपके बालों के झड़ने की समस्या भी जल्दी दूर हो जाएगी। फिर अगर आपके बालों में रूसी है तो वह भी दूर करने में आपका मदद करेगा।

शिव को भी प्रिय है धतूरा

भगवान शिव जितने रहस्यमयी हैं, उनकी वेश-भूषा व उनसे जुड़े तथ्य उतने ही विचित्र हैं। शिव श्मशान में निवास करते हैं, गले में नाग धारण करते हैं, भांग व धतूरा ग्रहण करते हैं।

आयुर्वेद में प्रयोग

आपको बता दें कि धतूरे के पत्तों का धूँआ दमा शांत करता है। तथा धतूरे के पत्तों का अर्क कान में डालने से आँख का दुखना बंद हो जाता है। धतूरे की जड सूंघे तो मृगीरोग शाँत हो जाता है।
1. धतूरे की फल को बीच से तरास कर उसमें लौंग रखे, फिर कपड मिट्टी कर भूमर में भूने, जब भून जाए, तब पीस कर उसका उडद बराबर गोलीयाँ बनाये, सुबह शाम एक -एक गोली खाने से ताप रोग दूर हो जाता है।
2. धतूरे के कोमल पत्तो पर तेल लगाकर और आग पर सेंकर बच्चे के पेट पर बाँधे इससे बच्चे का सर्दी दूर हो जाती है।
3. फोडा पर बाँधने से फोडा अच्छा हो जाता है।
4. बवासीर और भगन्दर पर धतूरे के पत्ते सेंक कर बाँधे।
5. स्त्री के प्रसूती रोग अथवा गठिया रोग होने से धतूरे के बीजों तेल मला जाता है।

Back to top button