क्या “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” योजना में मिल रहे 2 लाख, इसीलिए लगी है ये भीड़

‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ योजना के जरिये महिलओं को शिक्षित और सुरक्षित करने के लिए जहां केंद्र और राज्य सरकार करोंड़ों रुपये खर्च कर रही है. वहीं कुछ जालसाज इस योजना के नाम पर लोगों से ठगी करने को कोशिश में जुट गये हैं.

मामला उत्तर प्रदेश के गाजीपुर जिले के मरदह थाना क्षेत्र से सामने आया है. यहां इन दिनों “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” योजना के नाम पर अफवाह फैल रही है. अफवाह के मुताबिक, इस योजना का फार्म भरकर अगर दिल्ली भेजा जाएगा तो उनके बैंक खाते में सरकार दो लाख भेजेगी.

इस अफवाह के फैलते ही आज सुबह से फार्म को पोस्ट करने के लिए मरदह के उप डाकघऱ में भारी सख्या में भीड़ जमा है. यहां पर पिछले 4 दिनों से हजारों स्पीड पोस्ट किया जा रहा है.

डाकघर में फार्म पोस्ट करने वालों की उमड़ी भीड़

जिले में अफवाह के बाद से ही “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” फार्म भरने की होड़ सी लगी हुई है. मरदह उप डाकघर स्पीडपोस्ट करने वाले भारी तादाद में पहुंच रहे हैं. छात्राएं, महिलाएं, एवं उनके अभिवावकों में 2 लाख रुपये “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” के नाम पर केंद्र सरकार से प्राप्त करने की होड़ लग गई है. 10 बजे जैसे ही डाकघर खुलता है स्पीड पोस्ट करने के लिए अभिवावक भारी संख्या में लाईनों में लग जाते हैं.

जब हमने भीड़ में लगे छात्र-छात्राओं एवं अभिभावकों से इसका कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि भारत सरकार द्वारा “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” योजना के अन्तर्गत प्रत्येक छात्र को उसके खाते में दो लाख रुपये दिया जायेगा. इस वजह से सभी इसका फार्म भरकर दिल्ली पोस्ट कर रहे हैं.

दुकानदार फार्म बेच हो रहे मालामाल

इस अफवाह के बाद से ही भारी तादाद में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का पंजीकरण फॉर्म भरकर भारत सरकार के दिए पते पर भेज रहे हैं. लेकिन अब सवाल यह है कि क्या भारत सरकार ने क्या कोई ऐसी योजना चलाई है या मात्र अफवाह है. जो पांच रुपये से लेकर दस रुपये में दुकानदार फार्म बेचकर मालामाल हो रहे हैं. वहीं स्थानीय उप डाकघर में रोजाना 250 से 300 फार्म साधारण डाक से तो 200 से 500 स्पीड पोस्ट से भेजे जा रहे हैं.

इस सन्दर्भ में स्थानीय उप डाक घर में कार्यरत पोस्ट मास्टर से पूछने पर बताया कि हमें योजना से कोई लेना देना नहीं है. अगर कोई स्पीड पोस्ट के लिए डाक देगा तो हमें स्पीड पोस्ट रशीद देना ही पड़ेगा.

रेल राज्य मंत्री बोले- ऐसी कोई योजना नहीं

इस मामले में जब हमने भारत सरकार के रेल राज्य और संचार मंत्री मनोज सिन्हा से जानने का प्रयास किया तो उन्होंने बताया कि सुकन्या योजना में 1000 मासिक जमा करने की योजना है. इसके अलावा “बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ” के लिए कोई योजना नहीं है. वहीं उन्होंने जनपद में फैली अफवाह पर और पोस्ट ऑफिस के बाहर लगी लाइनों को भी नकार दिया है. लेकिन कुल मिलाकर इन दिनों इस योजना को लेकर जमकर अफवाह फैल रही है.