देश

लालू यादव की नई मुसीबत, नाम है तेजप्रताप

फिर से नयी मुसीबत में राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव घिर गए हैं, लेकिन उनके घर के अंदर ही ये मुसीबत आ गयी है। ये मसला पार्टी और परिवार के खिलाफ उनके बड़े बेटे तेज प्रताप यादव के जाने का है। लोकसभा चुनाव में जहानाबाद और शिवहर सीटों पर तेज प्रताप अपने पसंदीदा प्रत्याशी को चाहते हैं, जबकि जहानाबाद से ऐसे उम्मीदवारों को उनके तेजस्वी यादव ने टिकट दे दिया है, जिस उम्मीदवार को तेज प्रताप देखना नहीं चाहते हैं। लालू यादव तेज प्रताप से पार्टी के अच्छे नेताओं की नाराजगी को ध्यान में रखते हुए उसे सुधरने में जुटे हुए हैं।

इस सुझाव को तेजस्वी ने किनारे कर दिया

जहानाबाद और शिवहर सीट से तेज प्रताप ने महागठबंधन के संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस से ठीक पहले अपने प्रत्याशियों क्रमशः चंद्र प्रकाश और अंगेश सिंह को टिकट देने का घोषणा किया था। लेकिन तेजस्वी ने इस कॉन्फ्रेंस में तेज प्रताप के सुझाव को किनारे करके जहानाबाद से पार्टी के उम्मीदवार का ऐलान कर दिया, लेकिन अभी तक किसी भी उम्मीदवार का नाम शिवहर से ऐलान नहीं किया है। जब प्रेस कॉन्फ्रेंस में तेज प्रताप के उम्मीदवारों को लेकर सवाल उठे तो तेजस्वी ने बोला कि वो सिर्फ सुझाव था।

अपने उम्मीदवारों के समर्थन में विद्रोह

इस मामले को ये बताया गया है की इस पूरे मसले से तेज प्रताप से नाराज हैं। अगर तेज प्रताप की बात नहीं मानी गयी तो वो निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चंद्रप्रकाश को मैदान में उतारेंगे और उनका समर्थन भी करेंगे। जहानाबाद सीट को लेकर तेजप्रताप ने कहा की इस सीट से उम्मीदवार को लेकर तेजस्वी ने गुमराह किया हुआ था और सुरेंद्र यादव, जो तीन दफा चुनाव हर चुके हैं उन्हें टिकट दे दिया। शिवहर सीट से अंगेश कुमार को लेकर तेज प्रताप ने तेजस्वी से उम्मीदवार बनाने को बोला है, और इस बात पर दो दिन का वक़्त भी तेजस्वी ने माँगा है।

लालू और राबड़ी क्षति को संभालने में लगे

खबर के मुताबिक, लालू यादव चुनाव से ठीक पहले आयी इस मुश्किल से खफा हो गए हैं, और वो क्षति को सुधरने में जुट गए हैं। तेज प्रताप को लालू यादव और राबड़ी देवी के द्वारा समझाने का प्रयाश किया जा रहा है। लेकिन अब तक इसका कोई समाधान नहीं निकल पाया है।

Back to top button