Top News
राज्यसभा में भी नागरिकता संशोधन बिल को हरी झंडी, पक्ष…CAB : 727 नामचीन हस्तियों ने बताया संविधान विरोधी, लिखा…ये लड़का हर महीने 5 औरतों को बनाता है मां,…जोक्स: पड़ोसन को किस करते लड़के ने पूछा- तुम्हारा पति…हिंदू धर्म में अंतिम संस्‍कार के बाद आवश्यक है स्‍नान,…प्रियंका चोपड़ा जब सरेआम हुईं Oopss मोमेंट का शिकार, देखें…ये लड़की 130 किलो से 62 तक पहुंची, बताई अपनी…ये हैं भारत के पांच सबसे महंगे मकान, एक तो…बच्चों को सैनिक बनाने के लिये खुला स्कूल, लेकिन वहां…WhatsApp पर इस सिक्यूरिटी फीचर को 1 मिनट से कम…काजोल और रानी सिर्फ कहने को हैं बहनें, इस वजह…इंटरव्यू का सवाल: कौन सी चीज नहीं होती पानी में…इन 4 कामों को अधूरा छोड़ने की शास्त्रों में सख्त…शाहरुख को अपना अवॉर्ड समर्पित किया ये इंडोनेशियन एक्टर, वजह…Video : सरकार से बोली शिवसेना- जिस स्कूल में आप…बिग बॉस: विकास ने ‘पोस्ट ऑफिस’ टास्क में चलाया ऐसा…इस न्यूकमर के गॉडफ़ादर बने सलमान, इस तरह से मदद…स्टेज पर गिरने वाली थीं सारा अली खान, लेकिन कार्तिक…रातों रात दूध जैसी गोरी होगी रंगत, घर बैठे बनाएं…जिस 2000 रुपए की ‘नोटबंदी’ की खबर वायरल, जानिए क्या…एकसाथ बिछा दी 2 बहनों की लाशें, मर्डर वेपन- रोटी…छात्रा को अकेला देख ड्राईवर बन गया हैवान, बस में…‘दबंग 3’ के मेकर्स दे रहे आपको ‘चुलबुल’ स्वैग का…जाह्नवी से गरीब बच्चे ने मांगे पैसे, दे दी ऐसी…RISAT-2BR1 सेटेलाइट इसरो ने किया लॉन्‍च, अब देश दुश्मनों पर…अवैध खनन की जांच करने गए अफसर पा गए सोने…पहाली रात पर दुल्हन का खुला ऐसा राज, दूल्हे को…आटे में चुपके से रख दें ये चीजें, फिर देखिए…तिहाड़ में लगातार टीवी देख रहे निर्भया के गुनाहगार, हर…युवी के रिटायरमेंट पर मां ने पहली बार जाहिर किए…दूसरे धर्म के लड़के संग जिंदगी बिताने का बनाया प्लान,…रेखा को अमिताभ की जिंदगी से यूं बाहर निकालीं जया,…सर्दी-जुखाम को इस लड़के ने लिया हल्के में, कीमत चुकाई…विराट रिकॉर्ड से सिर्फ 6 कदम दूर हैं कोहली, क्या…इन जोक्‍स को पढ़कर लोटपोट होने की गारंटी, यकीन न…बहनों की चौकड़ी ने जब शुरु किया बवाल, चौकी छोड़…14 साल की लड़की को अगवा कर बनाया मुसलमान, फिर…गुजरात दंगों में पीएम का नहीं कोई रोल, अमित शाह…VIDEO : रोहित ने किया है जो बड़ा दावा, क्या…बुंदेलियों ने फिर लिखी खून से चिट्ठी, क्या इस बार…विराट-अनुष्का की शादी को हुए दो साल, फोटो पोस्ट कर…यूपी की शिक्षा-व्यवस्था का देखिए सबूत, स्कूल में स्टूडेंट्स को…दूल्हा देर से लेकर पहुंचा बारात, दुल्हन ने फेरे ले…गृहमंत्री ने कहा-गलत सूचना फैलाने वाले बताएं कि यह बिल…नींबू में अगर इस तरह से गाड़ दी लौंग, तो…VIDEO : रोहित ने अचानक लिया ‘क्लीन शेव’ अवतार, इसकी…शादी तक के कागज निकले फर्जी, उसको तो सिर्फ सुहागरात…अनचाहे WhatsApp Groups में अगर नहीं होना चाहते Add, तो…पीके के पास सिर्फ 2 ऑप्शन- या तो खुद जेडीयू…अदालत के बाहर महिलाओं ने घेर लिया टीचर, मारा पत्थर…

फडणवीस को क्यों हटाना चाहते थे शरद पवार, किस बात का था डर ?

महाराष्ट्र में एक नया खुलासा हुआ कि NCP ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए BJP को प्रस्ताव भेजा था और साथ में दो शर्तें भी रखी थी. इन दो शर्तों में पहली शर्त यह थी कि केंद्र की राजनीति में सक्रिय बेटी सुप्रिया सुले को सबसे महत्वपूर्ण कृषि मंत्रालय दिया जाए और दूसरी यह थी कि देवेंद्र फडणवीस की जगह किसी और को मुख्यमंत्री बनाया जाए.

जब यह बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने आई तो वह सरकार बनाने के लिए इन शर्तों को मानने को तैयार नहीं हुए. यहां पर यह गौर करने वाली बात यह है कि आखिर शरद पवार देवेंद्र फडणवीस को क्यों हटाना चाहते थे? क्या उनसे दुश्मनी थी या फिर शरद पवार को डर था कि देवेंद्र फडणवीस उनके और उनके परिवार की राजनीतिक भविष्य के लिए खतरा साबित होंगे?

यह बात गले नहीं उतरती है कि NCP सरकार तो बनाना चाहती थी लेकिन देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार नहीं करना चाहते थे. देवेंद्र फडणवीस ने 5 वर्षों में महाराष्ट्र की दशा और दिशा दोनों ही बदल कर रख दी है और विकास कार्यों की लाइन लगा चुके है. अगर वे उसी रफ्तार से जारी रहते तो इसका परिणाम आने वाले 5 से 10 वर्षों में जमीनी हकीकत में बदल जाता. इतना सक्षम नेता आखिर NCP को क्यों स्वीकार नहीं था? इसका सबसे बड़ा कारण था शरद पवार का डर.

शरद पवार के इस डर के दो मुख्य कारण नजर आ रहे हैं. पहला देवेंद्र फडणवीस का एक निर्णायक और ईमानदार नेता होना, और दूसरा एक शानदार राजनीतिक विश्लेषक और रणनीतिकार जिसने महाराष्ट्र की राजनीति में अपनी एक अलग पहचान बनाई थी.

देवेंद्र फडणवीस ने अपने कार्यकाल के दौरान राज्य के चहुंमुखी विकास के कई महत्वपूर्ण कदम उठाये. किसी भी विवाद या भ्रष्टाचार में उनका नाम नहीं आया. चाहे कोई भी मौका हो उन्हें अभी तक कोई डिगा नहीं सका है. फडणवीस के सामने पार्टी के भीतर फैली गुटबाजी, शिवसेना जैसे कटु सहयोगी के साथ सुचारू रूप से सरकार चलाना,  राज्य में एनसीपी- कांग्रेस के प्रभाव को सीमित करना और भ्रष्टाचार में लिप्त राज्य के प्रशासनिक तंत्र को साफ करने जैसी अनेकों चुनौतियां थीं. लेकिन इसके बावजूद वह 47 वर्षों बाद 5 साल का कार्यकाल पूरा करने में सफल रहे.

देवेंद्र फडणवीस के बारे में यह कहा जा सकता है कि वो न सिर्फ महाराष्ट्र में भाजपा को उसके परंपरागत चुनावी क्षेत्रों में जीत दिलाना जानते हैं बल्कि नए चुनावी क्षेत्रों और विषम परिस्थितियों में भी अपनी पार्टी को जीत दिलाने में माहिर रहे हैं. चुनावों के लिहाज से भाजपा के प्रदर्शन पर नजर डालें तो भंडारा-गोंदिया का लोकसभा उपचुनाव जैसे कुछ अपवादों को छोड़कर पार्टी ने फडणवीस के नेतृत्व में लगभग सभी छोटे-बड़े चुनाव जीते हैं.

जाहिर है, शरद पवार को फडणवीस की छवि से यह डर बन गया होगा कि अगर वह 5 वर्ष और सत्ता में रह जाएंगे तो NCP, वह स्वयं और उनके राजनीतिक वारिस महाराष्ट्र की राजनीति में अप्रासंगिक हो जाते. शरद पवार ने देखा कि फडणवीस अगर राज्य में मुख्यमंत्री बने रहे तो उनकी जरूरत ही समाप्त हो जाएगी. यही कारण था कि शरद पवार ने BJP के सामने रखी गयी शर्तों में देवेंद्र फडणवीस के जगह दूसरे चेहरे को मुख्यमंत्री के रूप में मांग की थी.

 

Share this post

scroll to top