Breaking News
Loading...
Home / जिंदगी / जरा हट के / 4 करोड़ का दहेज ठुकरा कर दूल्हे ने लिया सिर्फ 1 का सिक्का, फिर बोला- आपकी बेटी..

4 करोड़ का दहेज ठुकरा कर दूल्हे ने लिया सिर्फ 1 का सिक्का, फिर बोला- आपकी बेटी..

 

जैसा कि आप सभी लोग जान रहे हैं कि आजकल शादियों का माहौल बड़े जोरों शोरों से चल रहा है आम लोग ही नहीं बल्कि यहां तक कि बॉलीवुड इंडस्ट्री में भी शादियां बड़ी धूमधाम से हो रही है आजकल बॉलीवुड की मशहूर हस्तियों की महंगी शादियां काफी सुर्खियों में छाई हुई है वैसे देखा जाए तो बॉलीवुड इंडस्ट्री की इन महंगी शादियों की चर्चाएं पूरी दुनिया में हो रही है परंतु आज हम आपको इस लेख के माध्यम से एक ऐसी जगह के बारे में जानकारी देने वाले हैं जिस जगह पर दहेज के कारण लड़कियों को अपनी आहुति तक देनी पड़ जाती है आप लोगों ने ऐसा बहुत सा मामला देखा या सुना होगा जिसमें दहेज की वजह से लड़की ने अपनी जान दे दी या फिर दहेज के कारण ससुराल वालों ने लड़की को घर से निकाल दिया इसी तरह की खबरें आए दिन सुनने में आती है जिन खबरों को सुनने के बाद आप काफी हैरान भी हो जाते होंगे।

दरअसल, आज हम आपको जिस मामले के बारे में जानकारी देने वाले हैं यह मामला पूरे देश के लिए एक मिसाल बनकर सामने आया है हम जिस मामले की बात कर रहे हैं यह मामला हरियाणा का है जहां पर हाल ही में एक ऐसी शादी हुई थी जिसकी तारीफ लोग करते हुए नहीं थक रहे हैं खासतौर से दूल्हे ने शादी से पहले जो मांग रखी उसके संबंध में कहा जा रहा है कि अब समाज को ऐसे मामलों पर गंभीरता से सोच विचार करना चाहिए अगर आप इस शादी के बारे में सुनेंगे तो आप भी काफी हैरान हो जाएंगे जी हां, क्योंकि यह शादी मात्र ₹1 रुपये में पूरी हो गई है।

आप सभी लोग बिलकुल सही सुन रहे हैं यह शादी मात्र ₹1 रुपये में पूरी हो गई है क्योंकि इसमें ना ही किसी बाजे की जरूरत पड़ी थी और ना ही इस शादी में किसी बाजे की धूम या किसी प्रकार की फिजूलखर्ची हुई थी बस दूल्हा अपने कुछ रिश्तेदारों के साथ बारात लेकर आया था और उसने बिना किसी दहेज या नगदी के विवाह किया था विवाह होने के बाद इन दोनों कपल की शादी की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल हो रही है जिसके बाद दंपति को देश-विदेश से शादी की बधाइयां मिल रही है।

दरअसल, यह शादी हरियाणा के सिरसा स्थित आदमपुर इलाके में हुई थी जो कि पूरे समाज के लिए एक नया संदेशा छोड़ गई है दूल्हा बलेंद्र ने शादी से पहले ही अपनी शर्त रख दी थी कि वह ना तो दहेज लेगा और ना ही किसी किस्म की फिजूलखर्ची को बढ़ावा देगा और ना ही फालतू की रस्मों में खर्च करेगा इतना ही नहीं बल्कि दूल्हे ने यहां तक कि कहा कि उन्होंने अपनी लड़की दे दी यही बहुत है।

इस पर दुल्हन कांता और उनके परिजन सहमत हो गए थे पहले दुल्हन के परिजन दूल्हे को 4 करोड रुपए दहेज के रूप में देने वाले थे परंतु जब दूल्हा बलेंद्र अपने कुछ गिने-चुने रिश्तेदारों के साथ बारात लेकर आया तो उन्होंने भेंट के रूप में ₹1 और नारियल स्वीकार किया था और फिर बिना किसी बैंड बाजे के साथ शांतिपूर्वक बारात लेकर गया और साथ ही इस शादी पर स्थानीय लोगों ने कहा है कि यदि समाज में हर परिवार ऐसी पहल करे तो ना सिर्फ हालात में सुधार आएगा बल्कि बेटियों की शिक्षा पर भी अधिक ध्यान दिया जा सकता है।

खबरों के अनुसार ऐसा बताया जाता है कि दूल्हा चूलीखुर्द गांव का रहने वाला है और इनके पिताजी का नाम छोटू राम खोखर है और माताजी का नाम संतोष है वहीं भजन लाल की पुत्री कांता खैरमपुर से है दूल्हा-दुल्हन उच्च शिक्षित है बलेंद्र ने अपने गांव में भी शादी को लेकर किसी प्रकार का दिखावा नहीं किया।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com