क्राइम

पुलिस से गुहार लगाते-लगाते टूट गई बलात्कार की शिकार, आखिर जिंदगी से मान ली हार

प्रतीकात्मक तस्वीर

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पुलिस की लापरवाही के कारण एक किशोरी ने आत्महत्या कर ली है. दरअसल गैंगरेप की पीड़ित किशोरी ने पुलिस में आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया था. लेकिन केस दर्ज करने के 13 दिन बाद भी पुलिस ने किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं की. आरोपी के घर के लोग भी पीड़िता को काफी दिनों से तंग कर रहे थे. घटना के बाद मृत किशोरी के परिजनों और स्थानीय लोगों ने शव को सड़क पर रखकर जमकर हंगामा किया. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले में कार्रवाई का आश्वासन देते हुए लोगों को शांत कराया.

क्या है पूरा मामला 

मामला कानपुर के रायपुरवा थाना क्षेत्र का हैं. यहां की निवासी एक किशोरी ने 27 जुलाई को मोहल्ले में ही रहने वाले तीन युवकों के खिलाफ स्थानीय थाने में दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया था. पीड़ित किशोरी ने लिखित में शिकायत करते हुए पुलिस को जानकारी दी कि तीन युवक उसे घर की छत से असलहे के बल पर उठा कर ले गए थे. जहां घर में बेहोश कर उसके साथ गैंगरेप किया गया. पुलिस ने किशोरी की शिकायत पर केस तो दर्ज किया लेकिन आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की.

13 दिन के बाद भी पुलिस की ओर से किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गई थी. जिसके चलते आरोपियों के परिजन किशोरी पर आए दिन अश्लील कमेंट करते थे. पुलिसकर्मियों द्वारा किसी भी तरह की कार्रवाई न होने से परेशान किशोरी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. घटना के बाद गुस्साए परिजनों और स्थानीय लोगों ने मृत किशोरी के शव को सड़क पर रखकर भारी जाम लगा दिया. पुलिस मामले की सूचना मिलते ही भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंची और हंगामा कर रहे लोगों को मामले में कार्रवाई का आश्वासन देते हुए शांत कराया.

एसएसपी अंनत देव का कहना है कि किशोरी द्वारा लगाए गए आरोप और उसकी मेडिकल रिपोर्ट आपस में मैच नहीं कर रही है. वहीं सभी आरोपी घर में ताला डालकर फरार हो गए थे. जिसके कारण उनकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई. एसएसपी अनंत देव के मुताबिक मामले की जांच की जा रही है. जांच में अगर पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आई तो सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. फिलहाल पुलिस गैंगरेप की एफआईआर को दो परिवारों के बीच आपसी विवाद का मामला बता कर घटना की संगीनता को कम करने की कोशिश करते दिखाई दे रहे हैं.

 

Back to top button