रेड लाइट एरिया में की छापेमारी,करवाया जाता था उनसे ये घिनौना काम

सभ्यता और संस्कृति के विकास के साथ वेश्यावृत्ति का भी पूरी दुनिया में चरम उभार हो चुका है. पोस्ट मॉडर्न सोसाइटी में वेश्यावृत्ति के अलग-अलग रूप भी सामने आए हैं. रेड लाइट इलाकों से निकल कर वेश्यावृत्ति अब मसाज पार्लरों एवं एस्कार्ट सर्विस के रूप में भी फल-फूल रही है. देह का धंधा कमाई का चोखा जरिया बन चुका है.जैसा कि हम सभी जानते हैं कि यूपी के मेरठ में स्थित कबाड़ी बाजार बहुत ही पुराना रेड लाइट एरिया है. यहां अंग्रेजों के जमाने से देहव्यापार किया जाता है. इन दिनों यहां पर देहव्यापार का परंपरागत धंधा अब गलत हथकंडे अपनाकर चलाया जा रहा है. हाल ही में यहां पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छापा मारा तो दंग रह गई.  इस दौरान यहां से 4 लड़कियों को मुक्त कराया. आरोप है कि कोठा संचालिका नाबालिग लड़कियों से देह व्यापार का धंधा करा रही थी. कोठा संचालिका को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है.

जॉब का ऑफर दे लड़कियों को बनाया जाता था बंधक

एनजीओ फ्रीडम फर्म के सुरेन्द्र ने बताया कि इलाहाबाद की एनजीओ की सूचना पर ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट ने मेरठ के कबाड़ी बाजार में छापा मारा. जहां से पुलिस ने राजस्थान की चार नाबालिग लड़कियों को बरामद किया. कोठा संचालिका भी पकड़ी गई है. किशोरियों ने बताया कि वह एक महीने पहले ही आई थीं. ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट की कार्यवाहक प्रभारी लतेश वर्मा ने बताया कि ब्रह्मपुरी क्षेत्र के कबाड़ी बाजार में कई नाबालिग लड़कियों से देह व्यापार कराने की सूचना मिली थी. ब्रह्मपुरी पुलिस को साथ लेकर छापा मारा गया. किशोरियों ने अपनी सहेलियां के जरिये यहां तक पहुंचने की बात कही. पुलिस के मुताबिक दिल्ली में कोठे पर बेचने के लिए कई दलाल हैं. जो कई राज्यों से लड़कियों का अपहरण कराते और कोठे पर बेचते हैं.

एसपी सिटी ने कहा

एसपी सिटी मान सिंह चौहान ने कहा कि छापेमारी में कोठे की संचालिका को गिरफ्तार कर लिया गया है. इस समय उससे पूछताछ की जा रही है. इस मामले की जाँच की की जा रही है. रिपोर्ट आने के बाद आरोपी के ऊपर उचित कार्यवाई की जाएगी. छुड़ाई गयी लड़कियों को अभी महिला थाने के हवाले कर दिया गया है. पहले इनका मेडिकल करवाया जायेगा. उसके बाद आगे की कार्यवाई सुनिश्चित की जाएगी.