ख़बरदेश

मोदी के मास्टरस्ट्रोक से चकराए राहुल गांधी, 370 पर बोले बस इतना कि..!

राज्यसभा में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक पर पर्चियों से मतदान के बाद इसे पास कर दिया गया है। विपक्षी दलों की ओर से इस पर वोटिंग की मांग की गई थी। पर्चियों के जरिए वोटिंग प्रक्रिया पूरी होने के बाद पक्ष में 125 मत पड़े जबकि विरोध में 61 मत पड़े। अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले से जम्मूवासी फूले नहीं समा रहे हैं तो दूसरी ओर कश्मीर घाटी में माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है। कोई भी इस बारे में खुलकर बात नहीं कर रहा है। राज्य से अनुच्छेद 370 को हटाने के फैसले का एनसी, पीडीपी तथा कांग्रेस विरोध करके इस फैसले को राज्य की जनता के खिलाफ बता रही है। लद्दाख व जम्मू-कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश बनाए जाने से जम्मूवासियों में खुशी की लहर दौड़ गई हैं। मिठाईयां बांटकर व ढोल बजाकर केन्द्र सरकार के इस फैसले का स्वागत किया जा रहा है। डोगरा फ्रंट व विश्व हिन्दू परिषद ने इस फैसले का स्वागत कार्यकर्ताओं में मिठाईयां बांट कर किया है।

वही इस पर केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी  ने पहली बार प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए से कहा कि चुकि वह अब पार्टी के अध्यक्ष नहीं है इसलिए वह इस मुद्दे पर बैठक नहीं बुला सकते. सूत्रों से मिला जानकारी के अनुसार धारा 370 हटाए जाने को लेकर पहले कांग्रेस पार्टी के अंदर स्थिति साफ नहीं थी लेकिन अब पार्टी में इस फैसले का विरोध करने पर सहमति बन गई है. कांग्रेस के अनुसार जिस तरह से इस धारा को हटाया गया है वह तरीका सही नहीं है।

कांग्रेस का रुख

मिली जानकारी के मुताबिक बताते चले धारा 370 हटने के बाद पार्टी के भीतर इस बात को लेकर बहस हो रही है इस पूरे मसले पर कांग्रेस का क्या रुख रहेगा, जिसके बाद यह फैसला लिया गया है कि वह अनुच्छेद 370 को खत्म किए जाने के फैसले का समर्थन नहीं करेगी, क्योंकि जिस तरह से यह फैसला लिया गया है, पार्टी उसका समर्थन नहीं करती है। यही वजह है कि गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल ने राज्यसभा में सरकार के इस फैसले को लोकतंत्र की हत्या करार दिया है। वहीं कांग्रेस के सांसद लोकसभा से वॉकाउट कर गए, खुद सोनिया गांधी और तमाम पार्टी के सांसदों ने लोकसभा से वॉकआउट किया। लेकिन बावजूद पार्टी के फैसले के कुछ कांग्रेस सांसदों ने सरकार के फैसले का समर्थन करते हुए इसे अपनी व्यक्तिगत राय बताया है।

Back to top button