देश

राबड़ी को सताई जेल में कैद लालू की याद, ये कविता लिखकर जाहिर किए जज्बात

बिहार की पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी ने एक कविता के जरिए अपना दर्द बयां किया है. राबड़ी देवी ने यह कविता खुद लिखी है. इसके जरिए उन्होंने अपने राजनीतिक विरोधियों पर निशाना साधा है साथ ही लालू से जुदा होने का दुख भी जाहिर किया है.

उन्‍होंने लिखा, ‘नैना थोड़े हैं नम, दिल में है ज़रा सा गम पर हिम्मत न टूटी, न हुआ है हौसला कम. बड़बोले पापी को लाएंगे जमीन पर हम, इस साज़िश का बदला, बदलाव से लेंगे हम. कोई कैसे करेगा जुदा, कोई कैसे करेगा जुदा. जीवन में लालू हैं, जन जन में लालू है, कण कण में लालू हैं, हर मन में लालू है.’

Back to top button