महाराष्ट्र में PM मोदी का खुला चैलेंज, बोले- हिम्मत है तो विपक्षी दल वापस लाकर दिखाएं 370

0
40

महाराष्ट्र विधानसभा के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (रविवार) जलगांव से चुनावी अभियान का आगाज किया है। पीएम मोदी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा,जम्मू कश्मीर और लद्दाख सिर्फ जमीन का एक टुकड़ा नहीं है, वो मां भारती का शीष है, वहां का कण-कण भारत की शक्ति को मजबूत करता है। पीएम मोदी ने कहा, रैली में मोदी ने कहा कि कश्मीर हमारा मस्तक है, नापाक पड़ोसी वहां अशांति फैलाने की कोशिश में जुटा है। अनुच्छेद 370 पर अटल फैसला कुछ नेताओं को मंजूर नहीं है। मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि दम है तो अपने घोषणापत्र में लिखें- हम 370 को वापस लाएंगे।

पीएम मोदी ने कहा, 5 अगस्त को आपकी भावना के अनुरूप भाजपा- NDA सरकार ने एक अभूतपूर्व फैसला लिया। जिसके बारे में सोचना तक पहले असंभव लगता था। एक ऐसी स्थिति जिसमें जम्मू कश्मीर के गरीब की, बहन-बेटियों की, दलितों और शोषितों के विकास की संभावनाएं नहीं के बराबर थी। आज नया भारत ठान चुका है कि उसे अतीत के अनावश्यक बंधनों में बंधकर नहीं रहना है। आज नया भारत खुद के वर्तमान को मजबूत तक कर ही रहा है, खुद का भविष्य भी तय कर रहा है। बीते कुछ समय से हम लगातार चुनौतियों को चुनौती दे रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा, आज मैं विरोधियों को चुनौती देता हूं कि आपमें अगर हिम्मत है तो इस चुनाव में भी और आने वाले चुनावों में भी अपने चुनावी घोषणा पत्र में ये ऐलान करें कि हम अनुच्छेद 370 को वापस लाएंगे। 5 अगस्त के निर्णय को हम बदल देंगे। वर्ना ये घड़ियाली आंसू बहाना बंद करें। बीते 5 वर्षों के हमारे काम से यहां विपक्षी भी हैरान और परेशान हैं। हमारे विरोधी भी आज ये मान रहे हैं कि भाजपा-शिवसेना गठबंधन का नेतृत्व कर्मशील भी है और ऊर्जावान भी है। थके हुए साथी, एक दूसरे के लिए सहारा तो बन सकते हैं, महाराष्ट्र के सपनों को और यहां के युवाओं की आकांक्षाओं को पूरा करने का माध्यम नहीं बन सकते।

पीएम मोदी ने कहा, जब यहां की गरीब बहनों के जीवन में आए बदलाव के बारे में सुनते हैं, तो हमें संतोष होता है। आज महाराष्ट्र की करीब 10 लाख बहनें हमारी सरकार की आवास योजना की वजह से अपने पक्के घर में अपने परिवार की देखभाल कर रही हैं। महाराष्ट्र और देश के हर गरीब के अपने घर के सपनें को 2022 तक पूरा करने के लिए हम पूरे सामर्थ्य के साथ जुटे हैं।

पीएम मोदी ने कहा,आप ये जानकार हैरान हो जाएंगे कि 70 साल तक जम्मू कश्मीर और लद्दाख के हमारे वाल्मीकि भाइयों को मानवाधिकारों से भी वंचित कर दिया गया था। आज मैं भगवान वाल्मीकि के चरणों में नमन करते हुए कहता हूं कि आज मुझे अपने उन भाइयों को गले लगाने का सौभाग्य मिल रहा है। इनका तालमेल पड़ोसी देश के साथ मिलता जुलता है। आज दुर्भाग्य के साथ कहना पड़ रहा है कि हमारे देश के कुछ राजनीतिक दल, कुछ राजनेता, राष्ट्रहित में लिए गए इस निर्णय पर राजनीति करने में जुटे हैं। बीते कुछ महीनों में कांग्रेस-एनसीपी के नेताओं के बयान देख लीजिए। जम्मू-कश्मीर को लेकर जो पूरा देश सोचता है, उससे एकदम उल्टा इनकी सोच दिखती है।

पीएम मोदी ने कहा, आज भारत की आवाज दुनिया की हर ताकत मजबूती से सुन रही हैं। दुनिया का हर देश आज भारत के साथ खड़ा हैं, हमारे साथ मिलकर आगे बढ़ने के लिए उत्साहित है। अब नए भारत का नया जोश, दुनिया को भी दिखने लगा है। आज दुनिया में नए भारत का जो जलवा है ,उसके पीछे सिर्फ और सिर्फ मेरे 130 करोड़ देशवासी हैं। हम सभी आने वाले 5 वर्षों के लिए देवेंद्र फडणवीस जी की अगुवाई में महायुति सरकार के लिए एक बार फिर आप सबका आशीर्वाद लेने आये हैं। साथ ही आपने लोकसभा चुनाव में हमें जो आशीर्वाद दिया उसके लिए भी आभार जताने आये हैं।

फडणवीस के नेतृत्व में बनाएंगे सरकार
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जलगांव की जनसभा में इस बात का संकेत दे दिया है कि महाराष्ट्र चुनाव में इस बार कोई शिवसैनिक मुख्यमंत्री नहीं बनेगा। पीएम मोदी ने कहा है फडणवीस के समर्थन में वोट मांगते हुए कहा कि हम एक बार फिर फडणवीस के नेतृत्व में महाराष्ट्र में सरकार बनाने जा रहे है। गौरतलब है कि शिवसेना प्रमुख उद्वव ठाकरे पहले ही कह चुके हैं कि इस बार महाराष्ट्र के सीएम की कुर्सी पर कोई शिवसैनिक ही बैठेगा। उन्होंने कुछ दिन पहले वचन देते हुए ये बात कही थी। अब देखना रोचक होगा कि इस बार सीएम की कुर्सी पर कौन बैठेगा।

बता दें कि शनिवार रात अपने ट्वीट में उन्होंने बताया कि वह सकोली और जलगांव से महाराष्ट्र में चुनाव प्रचार करने जा रहे है। 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र की 288 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव होने हैं। जिसके परिणाम 24 अक्टूबर को सामने आ जाएंगे। पीएम मोदी ने ट्वीट कर बताया कि जलगांव और सकोली में रैलियों को संबोधित करने के लिए तत्पर हूं। दूरदर्शी और युवा मुख्यमंत्री फडणवीस जी के नेतृत्व की सरकार के कार्यों के आधार पर NDA लोगों के पास जा रही है। हम राज्य की सेवा के लिए और पांच साल चाहते हैं।

18 अक्टूबर को अंतिम रैली

इसके बाद पीएम मोदी भंडारा में भी रैली करेंगे। मोदी की महाराष्ट्र में चार दिन के दौरान 9 रैलियां होने जा रही है। बुधवार और गुरुवार को उनकी तीन रैलियां हैं। वे अकोला, ऐरोली (नवी मुंबई), सतारा, पर्टूर, पुणे और परली में जनता को संबोधित करेंगे। अंत में 18 अक्टूबर को मुंबई में चुनावी जनसभा होने जा रही है। 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे।  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कई प्रचार में जुटे हैं।