मोदी ने फिर लिया राजीव गांधी का नाम, कहा- जंगी जहाज़ को बना लिये थे पिकनिक स्पॉट

0
54

Image result for मोदी और राहुल

नयी दिल्ली . प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सभी प्रमुख विपक्षी दलों की कड़ी आलोचना करते हुए आज कहा कि आजादी के बाद देश की राजनीति में मुख्य रूप से चार राजनीतिक संस्कृतियाें को देखा गया लेकिन दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने ‘नाकामपंथ’ की पांचवीं संस्कृति स्थापित की है।
मोदी ने यहां रामलीला मैदान में भारतीय जनता पार्टी की ओर से आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि पहले देश की राजनीति में नामपंथी, वामपंथी, दाम एवं दमनपंथी तथा विकासपंथी परंपराएं हैं लेकिन दिल्ली ने एक नयी पांचवी राजनीतिक संस्कृति -नाकामपंथी राजनीति की शुरूआत की है। जनसभा में दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों के उम्मीदवार भी मौजूद थे।

बुधवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में रैली के दौरान पीएम मोदी ने राजीव गांधी का जिक्र कर कांग्रेस पर जबरदस्त हमला बोला है। पीएम ने कहा कि जो लोग आज कह रहे हैं कि सेना किसी की जागीर नहीं है, उसी परिवार के लोग नौसेना के वॉरशिप INS विराट को लेकर छुट्टियां मनाने गए थे।

‘पूर्व पीएम के ससुराल वाले भी छुट्टी पर’
पीएम मोदी ने कहा, ‘INS विराट उस समय समुद्र की रखवाली के लिए तैनात था। उनके पूरे कुनबे को लेकर आईएनएस विराट खास द्वीप पर रुका और 10 दिन तक रुका रहा। राजीव गांधी के साथ छुट्टी मनाने वालों में उनके ससुराल वाले भी थे। क्या विदेशी लोगों को वॉरशिप पर ले जाकर देश की सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं किया था? नामदार परिवार की इस छुट्टी का किस्सा इतने पर खत्म नहीं होता, जिस द्वीप पर गांधी परिवार छुट्टी मनाने गया था, वहां रख-रखाव का काम भी नौसेना ने ही किया था। जब एक परिवार ही सर्वोच्च हो जाता है तो देश की सुरक्षा दांव पर लग जाती है।’

टैक्सी की तरह किया INS का इस्तेमाल
पीएम मोदी ने कहा, ‘आज की पीढ़ी को कुछ सच्चाइयों से परिचित होना जरूरी है। कांग्रेस के नामदार मुझे गाली देने में कोई कमी नहीं रखते हैं। कांग्रेस के नामदार कह रहे हैं कि सेना किसी जागीर नहीं है। देश की रक्षा  करने वाली सेना को अपनी जागीर कौन समझता है, यह मैं बताऊंगा। क्या आपने सुना है कि कोई अपने परिवार के साथ युद्धपोत से छुट्टियां मनाने जाए। यह हमारे ही देश में हुआ है।’ पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि कांग्रेस के नामदार परिवार ने INS विराट का अपनी टैक्सी की तरह इस्तेमाल किया था। उसका अपमान किया था। यह बात तब की है, राजीव गांधी भारत के पीएम थे और 10 दिन की छुट्टियां मनाने निकले थे।

इसके साथ ही पीएम मोदी ने दिल्ली के सीएम का नाम लिए बगैर, उनकी सरकार को नाकामपंथी बताया। उन्होंने कहा कि नामपंथी का विजन विरासत की राजनीति में है तथा वामपंथी विदेशी विचार एवं व्यवहार की दृष्टि रखते हैं। दाम एवं दमनपंथी गुंडातंत्र को गणतंत्र की परिभाषा मानते हैं जबकि विकासपंथी सबका साथ सबका विकास को सर्वोपरि मानते हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली देश का इकलौता राज्य है जिसने राजनीति में नाकामपंथी की पांचवीं परंपरा जोड़ी है जो ना काम करते हैं और काम में विश्वास नहीं रखते हैं। अराजकता और विश्वासघात करने में महारत हासिल है।

प्रधानमंत्री ने आम आदमी पार्टी का नाम लिये बिना कहा कि इस पार्टी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़े आंदोलन को नाकाम करने का पाप किया है तथा आम आदमी की छवि को बदनाम किया है और करोड़ो युवाओं के भरोसे का चकनाचूर कर दिया है। उन्होंने कहा कि ये देश बदलने आये थे और खुद ही बदल गये। नयी व्यवस्था देने आये थे लेकिन अव्यवस्था एवं अराजकता का दूसरा नाम बन गये।

उन्हाेंने कहा कि व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा के कारण यू टर्न लेने एवं दूसरों को गाली देने का कुसंस्कार प्रकट किया है। हर नाकामी का ठीकरा दूसरों पर फोड़ा। पंजाब में देश विरोधियाें एवं खालिस्तान समर्थकों को सहयोग दिया बल्कि विदेशों में भी देश विरोधी ताकतों से संपर्क करने में संकोच नहीं किया।

उन्होंने आप सरकार पर नकारात्मक सोच से काम करने का आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली सरकार के अस्पतालों में आयुष्मान भारत योजना नहीं लागू की गयी है जिससे गरीबों को उपचार की सुविधा नहीं मिल रही है। इतना ही नहीं यहीं सामान्य वर्ग के गरीबों का दस प्रतिशत की आरक्षण की सुविधा का लाभ नहीं दिया जा रहा है।  उन्होंने दिल्ली की वर्तमान स्थिति के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि राजधानी में नाकामपंथी सरकार स्थापित करने की जिम्मेदार नामपंथी पार्टी है।

प्रधानमंत्री ने आम आदमी पार्टी का नाम लिये बिना कहा कि इस पार्टी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़े आंदोलन को नाकाम करने का पाप किया है तथा आम आदमी की छवि को बदनाम किया है और करोड़ो युवाओं के भरोसे का चकनाचूर कर दिया है। उन्होंने कहा कि ये देश बदलने आये थे और खुद ही बदल गये। नयी व्यवस्था देने आये थे लेकिन अव्यवस्था एवं अराजकता का दूसरा नाम बन गये।

उन्हाेंने कहा कि व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा के कारण यू टर्न लेने एवं दूसरों को गाली देने का कुसंस्कार प्रकट किया है। हर नाकामी का ठीकरा दूसरों पर फोड़ा। पंजाब में देश विरोधियाें एवं खालिस्तान समर्थकों को सहयोग दिया बल्कि विदेशों में भी देश विरोधी ताकतों से संपर्क करने में संकोच नहीं किया। उन्होंने आप सरकार पर नकारात्मक सोच से काम करने का आरोप लगाते हुए कहा कि दिल्ली सरकार के अस्पतालों में आयुष्मान भारत योजना नहीं लागू की गयी है जिससे गरीबों को उपचार की सुविधा नहीं मिल रही है। इतना ही नहीं यहीं सामान्य वर्ग के गरीबों का दस प्रतिशत की आरक्षण की सुविधा का लाभ नहीं दिया जा रहा है।

उन्होंने दिल्ली की वर्तमान स्थिति के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि राजधानी में नाकामपंथी सरकार स्थापित करने की जिम्मेदार नामपंथी पार्टी है।