करतारपुर गलियारे के लिए पीएम मोदी ने पाकिस्तान PM इमरान खान को कहा ‘शुक्रिया’

0
51

-श्री गुरुनानक देव जी के 550वे प्रकाशोत्सव को समर्पित कार्यक्रम
– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 550 रुपये की सिक्का और डाक टिकट जारी किए
– गुरु नानकदेव भारत की धरोहर ही नहीं, पूरी मानवता के लिए प्रेरणा के पुंज हैं
– प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का जताया आभार

डेरा बाबा नानक.  पहली पातशाही श्री गुरुनानक देव जी के 550वे प्रकाशोत्सव के मौके पर शनिवार को करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन करने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कॉरीडोर को देश को समर्पित किया और पूरे देश और दुनिया में रह रहे सिख भाईचारे के लोगों को बधाई दी। वहीं उन्होंने सिखों की भावनाओं को समझते हुए समय पर कॉरिडोर का निर्माण करवाने के लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को भी धन्यवाद कहा। इस अवसर पर उन्होंने 550 रुपये का सिक्का और डाक टिकट भी जारी किए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वे आज इस पवित्र धरती पर आकर खुद को धन्य महसूस कर रहे हैं। उन्होंने करतारपुर कॉरिडोर को देश को समर्पित करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि श्री गुरुनानक देव जी सिर्फ भारत की धरोहर ही नहीं बल्कि पूरी मानवता के लिए वे एक प्रेरणा पुंज हैं। उस समय सामाजिक भेदभाव, अत्याचार और अधर्म की जो अमावस्या छाई हुई थी, उससे बाहर निकालने के लिए वे विश्व भ्रमण पर निकल पड़े थे। उन्होंने अपनी उदासियों के माध्यम से लोगों लोगों को इन कुरीतियों से बाहर निकालने में अपना जीवन समर्पित कर दिया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक तरफ जहां गुरु नानक देव जी जहां सामाजिक दर्शन से एकता, भाईचारे और साहौर्द का रास्ता दिखाया तो वहीं समाज को एक ऐसी आर्थिक व्यवस्था भी भेंट की, जो सच्चाई और ईमानदारी पर टिकी हुई थी। उन्होंने बताया कि किस तरह से सच्चाई और ईमानदारी के रास्ते पर चल कर किए गए कामों से तरक्की के रास्ते खुलते हैं। उन्होंने समाज को ‘किरत करो, नाम जपो और वंड छको’ का मूलमंत्र दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि गुरुनानक देव ने अपने करीबी भाई लालो और भाई मर्दाना को अपने साथियों के रूप में चुनकर ये संदेश दिया कि कोई छोटा-बड़ा नहीं होता, सब एक समान है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज पूरी दुनिया में भारतीय दूतावासों की ओर से गुरु साहिब को समर्पित कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है। सिख पंथ की परंपरा को पूरी दुनिया तक पहुंचाया जा रहा है । उन्होंने कहा कि गुरुबाणी का अलग-अलग भाषाओं में अनुवाद किया जा रहा है। यूनिस्को द्वारा उस काम में सराहनीय मदद की जा रही है। यहीं नहीं, गुरु नानक देव और खालसा पंथ से जुड़ी शिक्षाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी की ओर से सराहनीय पहल की गई है तो वहीं कनाडा और अमृतसर में भी ऐसा ही फैसला लिया गया है। हमारे गुरुओं से जुड़े अहम और पवित्र स्थानों से नई पीढी का साक्षात्कार हो, इसे लेकर गंभीर कोशिशें की जा रही हैं। इसी के तहत सुल्तानपुर लोधी को हेरीटेज सिटी बनाने का काम किया जा रहा। यहां के रेलवे स्टेशन से लेकर अन्य सिख धार्मिक स्थानों तक स्पेशल ट्रेन हफ्ते में पांच दिन चलाई जा रही है। श्री केसगढ़ साहिब, श्री पटना साहिब, श्री हुजूर साहिब, श्री दमदमा साहिब तक कनेक्टिविटी बनाने के लिए सीधी फ्लाइट शुरू की गई है। अमृतसर से लंदन तक जाने वाली सीधी फ्लाइट में एक ओंकार सुनाई देता है।

काली सूची में से हटाए गए सिखों के नामों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने कहा कि कई सालों से कुछ सिख भाइयों को भारत आने में दिक्कतें पेश आ रही थी , जिन्हें दूर कर दिया गया है। अब वे वीजा या ओसीआई कार्ड के लिए भारत आ सकते हैं। भारत में रहते अपने परिवारों से मिल सकते हैं। मोदी ने कहा कि केंद्र के दो और फैसले से भी सिखों को सीधा लाभ पहुंचा है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में रह रहे सिख परिवारों को भी अब वही अधिकार मिलेंगे जो बाकी हिन्दुस्तान में रह रहे सिखों को मिल रहे हैं। । अभी तक हजारों सिख परिवार ऐसे थे, जो इन अधिकारों से वंचित थे। सिटीजन एमेंटमेट बिल से उन्हें भारत की नागरिकता मिलने में आसानी होगी। इसके अलावा, इसी साल जलियांवाला बाग कांड के 100 साल पूरे होने पर इसे अब आधुनिक रूप दिया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने करतारपुर कॉरिडोर के पूरे होने पर जहां पंजाब सरकार और इसे बनाने में शामिल श्रमिकों को धन्यवाद कहा तो वहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और वहां के श्रमिकों का भी शुक्रिया अदा किया।