हमारे देश के युवा बहकावे में नहीं आने वाले,देश को बांट रहे हैं कुछ लोगः PM मोदी

भारत में हर साल 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है. 1984 में भारत सरकार ने स्वामी विवेकानंद जयंती पर इसे मनाने की घोषणा की थी. प्रेरणा के अपार स्रोत रहे और आज भी युवाओं के लिए स्वामी विवेकानंद की कही एक-एक बात उर्जा से भर देती है. अपने छोटे से जीवन में ही उन्होंने पूरे दुनिया पर भारत और हिंदुत्व की गहरी छाप छोड़ी. शुक्रवार को कर्नाटक के बेलगाम में पीएम नरेंद्र मोदी ने सर्वधर्म सभा को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संबोध‍ित किया.

विवेकानंद जयंती के मौके पर संबोधित किया पीएम ने

पीएम ने कहा, ”कुछ लोग देश को बांटने का काम कर रहे हैं, लेकिन हमारे देश के नौजवान उनको कड़ी चुनौती दे रहे हैं. हमारे देश के युवा बहकावे में नहीं आने वाले.”मोदी ने कहा, ‘विवेकानंद एक योद्धा सन्यासी थे. उन्होंने जातिगत भेदभाव के खिलाफ आवाज बुलंद की थी. उन्होंने लोगों को दो टूक कहा, ज्ञान में तुमसे कोई आगे नहीं है, लेकिन व्यवहार के मामले में भी तुमसे कोई निकृष्ट नहीं होगा. हमें भी जाति के जहर को खत्म करना होगा.’

Advertisement

मोदी ने कहा, ‘देश की सेवा में जुटा हुआ हर व्यक्ति आज स्वामी विवेकानंद का एक छोटा रूप ही तो है, जो दलित, पीड़ित, शोषित, वंचितों के लिए काम कर रहा है, वही तो विवेकानंद के सपनों को पूर्ण करने वाला सिपाही है.’
मोदी ने कहा, ‘भारत के एक रूप थे विवेकानंद , भारत के सुख-दुःख को अपना सुख मानने वाले महान पुरुष थे विवेकानंद. विवेकानंद को मानना है तो भीतर से जाति का द्वेष, जाति-भेद का ज़हर खत्म करना होगा.’

advt