मर्दों में नया क्रेज: हर महीने 100 पुरुषों के गुप्तांग का ‘गोरा’ ट्रीटमेंट !

गोरा होने की चाह किसमे नहीं होती, फिर वो लड़का हो या लड़की. यहं तक लोग इसके लिए तरह तरह के ट्रीटमेंट का भी इस्तेमाल करतें हैं. सोशल साईट की एक जानकारी के मुताबिक बैंकॉक के एक हॉस्पिटल में हर महीने करीब 100 पुरुष अपने गुप्तांग को गोरा करने के लिए ट्रीटमेंट करा रहे हैं.

Advertisement

इतना ही नहीं, अब थाईलैंड की सरकार ने लोगों को इस ट्रीटमेंट के खतरों के बारे में चेतावनी जारी की है. आइए जानते हैं पूरा मामला…

advt

 

कुछ महीनो पहले शुरू की सर्विस

बैंकॉक के लीलक्स हॉस्पिटल ने कुछ महीने पहले महिलाओं के वजाइना के लिए भी ऐसी सर्विस शुरू की थी. हॉस्पिटल के मार्केटिंग मैनेजर पोपोल तंसाकुल ने मीडिया को बताया है कि वजाइना को गोरा करने की सर्विस शुरू करने के बाद ही पुरुष अपने गुप्तांग को गोरे करने के लिए सवाल पूछने लगे.

हॉस्पिटल ने लोगों के रुझान को देखते हुए पुरुषों के लिए भी इस सर्विस को लॉन्च कर दिया. अन्य एशियाई देशों की तरह थाईलैंड में लोग गोरे दिखने की कोशिश करते हैं और काले को कमतर मानने का चलन है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, लीलक्स हॉस्पिटल बॉडी व्हाइटनिंग के लिए ही जाना जाता है. लेजर व्हाइटनिंग के जरिए पुरुषों के गुप्तांग को गोरा करने का हॉस्पिटल दावा करता है.

स्किन एंड लेजर डिपार्टमेंट की एक मैनेजर ने कहा कि हॉस्पिटल इस ट्रीटमेंट को लेकर खासा सतर्क रहता है, क्योंकि यह बॉडी का सेंसिटिव पार्ट है. स्किन एंड लेजर डिपार्टमेंट की मैनेजर ने कहा कि ज्यादातर क्लाइंट 22 से 55 साल की उम्र के होते हैं. इसमें एलजीबीटी कम्यूनिटी के लोग भी शामिल हैं.

हॉस्पिटल ने पिछले साल 3डी वजाइना नाम की सर्विस शुरू की थी. इसको लेकर काफी विवाद भी हुआ था. हॉस्पिटल व्हाइटिंग सर्विस के लिए करीब 41 हजार रुपए चार्ज करता है. इस दौरान 5 सेशन होते हैं.

सोशल साइट पर इस ट्रीटमेंट के वायरल होने के बाद लोगों ने काफी प्रतिक्रिया दी है. एक महिला के कमेन्ट को लोगों ने काफी रीट्वीट किया जिन्होंने लिखा कि उनके लिए साइज मैटर करता है रंग नहीं.