भाजपा की सत्ता से जाते ही पंकजा मुंडे ने दिए बगावत के संकेत, बोली-जल्द लूंगी फैसला

0
60

देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री कुर्सी खोने के बाद अपने पार्टी के नेताओं का विश्वास भी खोते जा रहे हैं। भाजपा की दिग्गज नेता पंकजा मुंडे ने पार्टी छोड़ने के संकेत दिए हैं। उन्होंने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से ‘भाजपा’ शब्द हटा दिया है। वहीं इससे पहले पंकजा ने फेसबुक पोस्ट लिखकर बीजेपी की मुश्किले बढ़ा दी है।

पंकजा मुंडे ने अपने पिता गोपीनाथ मुंडे के जन्मदिन 12 दिसंबर को समर्थकों की एक बैठक बुलाई है। मराठी में लिखे पोस्ट में पंकाजा ने कहा है कि चुनाव में हार के बाद समर्थकों के कई फोन-मैसेज आए, लेकिन राजनीतिक स्थिति ऐसी थी कि मिलना नहीं हो सका। उन्होंने लिखा है, ‘राज्य के बदले राजनीतिक परिदृश्य को देखते हुए यह सोचने की आवश्यकता है कि आगे क्या करना चाहिए। मुझे खुद से बात करने के लिए आठ से दस दिन की आवश्यकता है। आगे क्या करना है? हम अपने लोगों को क्या दे सकते हैं? हमारी शक्ति क्या है? जनता की हमसे अपेक्षा क्या है? इन सभी बातों पर विचार करूंगी और 12 दिसंबर को आपके सामने आऊंगी।’

नमस्कार मी पंकजा गोपीनाथ मुंडे…निवडणुका झाल्या निवडणुकीचे निकाल ही लागले. निकालानंतर राजकीय घडामोडी, कोअर कमिटीच्या…

Gepostet von Pankaja Gopinath Munde am Samstag, 30. November 2019

बता दें पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे परली से चुनाव हार गई। पंकजा अपने चचेरे भाई धनंजय मुंडे से हारी है। धनंजय से अपनी बहन पंकजा को लगभग 25 हजार वोटों से हराया था। वहीं पंकजा मुंडे पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस से नाराज भी हैं। पंकजा ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को बताया है कि वह चुनाव हारी नहीं, उन्हें हरवाया गया है।