ख़बरदेश

बताओ, इनको कभी पता रहा होगा कि जिस बिल्डिंग के उद्घाटन में दांत चियारे, वहीं लौट के आना पड़ेगा ?

ये तस्वीर 30 अप्रैल 2011 की है. तब केंद्र में यूपीए सरकार थी और पी चिदंबरम केंद्रीय गृहमंत्री. मौका था नई दिल्ली में सीबीआई के नए हेडक्वार्टर के उद्घाटन का. आज ये पुरानी तस्वीर इसलिए मौजूं हो जाती है, क्योंकि बीती रात से लेकर अबतक चिदंबरम इसी इमारत में हैं, लेकिन एक अपराधी की तरह. शायद इसी को समय का फेर कहा जाता है.

सीबीआई ने बेहद नाटकीय अंदाज में बुधवार रात को पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम को उनके घर से गिरफ्तार कर लिया. चिदंबरम को गिरफ्तार करने के बाद सीबीआई उन्हें सीबीआई मुख्यालय लेकर गई, जहां डॉक्टरों ने उनका मेडिकल किया और पूरी रात चिदंबरम को सीबीआई मुख्यालय में गुजारनी पड़ी.

सीबीआई के हेडक्वार्टर में पूरी रात पी. चिदंबरम शांत ही रहे. उन्होंने काफी कम बातचीत की, यहां तक कि जब सीबीआई के अफसर और डॉक्टर उनसे सवाल कर रहे थे तब भी वह शांत ही रहे. चिदंबरम को जब सीबीआई हेडक्वार्टर लाया गया तो डॉक्टरों ने उनसे कुछ सवाल पूछे. इस दौरान उनका बीपी नोट किया गया और तबीयत से जुड़े कुछ सवाल पूछे गए.

यहां सीबीआई अफसरों ने पूछा कि वह कम्फर्टेबल हैं या नहीं? इस दौरान चिदंबरम या तो शांत रहे या फिर उन्होंने छोटे ही जवाब दिए. सीबीआई हेडक्वार्टर के लॉकअप नंबर पांच में उन्हें रातभर रखा गया, जहां दो सीबीआई अफसर उनकी निगरानी कर रहे थे. लॉकअप रूम में सीसीटीवी कैमरे लगे थे, जिसकी फुटेज कंट्रोल रूम में दिख रही थी.

 

Back to top button