इस ऑपरेशन ने किया डॉक्टर को हैरान, जब महिला के पेट से निकले 300 से अधिक जिंदा केंचुए

साढ़े तीन साल से अक्सर पेट में दर्द रहता था, उल्टियां भी होती थीं, डॉक्टर ने ऑपरेशन किया तो सामने आया हैरान करने वाला नजारा

साढ़े तीन साल से अक्सर पेट में दर्द रहता था, उल्टियां भी होती थीं। लेकिन, इलाज के दौरान जब ऑपरेशन किया गया, तो डॉक्टर भी हैरान रह गए। डेढ़ घंटे चली सर्जरी में पेट से एक-एक कर 10-10 इंच के 300 से अधिक जिंदा केंचुए (राउंड वर्म) निकाले गए। यही नहीं, डॉक्टरों ने आंत में अभी और केंचुए होने की आशंका जताई है। यह वाकया पेश आया धनबाद के लोयाबाद की रहने वाली 25 साल की अंशु दास के साथ। शुक्रवार को ऑपरेशन किया गया।

साढ़े तीन साल से अक्सर पेट में दर्द रहता था, उल्टियां भी होती थीं, डॉक्टर ने ऑपरेशन किया तो सामने आया हैरान करने वाला नजारा

डॉक्टर इसे धनबाद का इस तरह का पहला मामला बता रहे हैं। हैरत की बात है कि एक्स-रे और अल्ट्रासोनोग्राफी में भी महिला के पेट में इतनी बड़ी संख्या में केंचुए होने की बात पकड़ में नहीं आई। जांच रिपोर्ट दिखाते हुए नर्सिंग होम के निदेशक जय प्रकाश खेतान ने महिला की सभी जांच रिपोर्ट सामान्य हैं। सर्जरी करनेवाले डॉ राम लखन प्रसाद ने बताया कि यह हैरान करने वाला वाकया है। सेंट्रल अस्पताल से रिटायर हुए डॉ प्रसाद ने कहा कि मेडिकल की पढ़ाई के दौरान ऐसा एक केस देखा था।

साढ़े तीन साल से अक्सर पेट में दर्द रहता था, उल्टियां भी होती थीं, डॉक्टर ने ऑपरेशन किया तो सामने आया हैरान करने वाला नजारा

डिलीवरी के बाद का दर्द समझकर टालती रही

अंशु दास ने बताया कि साढ़े तीन साल पहले बेटी हुई थी। उसके बाद से अक्सर पेट में दर्द रहता था। सोचा डिलीवरी के बाद ऐसा होता होगा। दर्द बढ़ने पर केमिस्ट के पास से दवा मंगाकर खा लेती थी। कुछ दिन पहले ससुराल गया से अपने मायके लोयाबाद आई थी। वहां डॉक्टर को दिखाया, कई तरह की जांच कराई, सभी में रिपोर्ट सामान्य मिली। फिर प्रगति नर्सिंग होम रेफर कर दिया गया।

साढ़े तीन साल से अक्सर पेट में दर्द रहता था, उल्टियां भी होती थीं, डॉक्टर ने ऑपरेशन किया तो सामने आया हैरान करने वाला नजारा

मुंह से भी निकले 10-12 वर्म

मरीज के पति चंद्र पासवान ने बताया कि पेट दर्द और उल्टियां होने पर 17 जुलाई को अंशु प्रगति नर्सिंग होम में भर्ती हुई। वहां उल्टियां होने पर 10-12 केंचुए मुंह से निकले। फिर मरीज का पेट फूलने लगा, तो सर्जरी की गई।